रुद्रप्रयाग के आपदाग्रस्त गांव का बेटा, बिना ट्यूशन गए बना उत्तराखंड का टॉपर

रुद्रप्रयाग के आपदाग्रस्त गांव का बेटा, बिना ट्यूशन गए बना उत्तराखंड का टॉपर

Ukhimath Jatin pushpwan top merit list of uttarakhand board - Uttarakhand news, jatin pushpwan  ,उत्तराखंड,

पिता ऊखीमठ में एक दुकान चलाते हैं और इसी दुकान से परिवार का पूरा खर्चा चलता है। रुद्रप्रयाग जिले के ऊखीमठ से सटा एक छोटा गांव है मंगोली। मंगोली वो गांव है, जो अक्सर आपदा की मार से ग्रसित रहता है। पहाड़ के ठीक नीचे बसे इस गांव में कई बार मौसम का कहर देखने को मिला है। इसी गांव का एक बेटा है जतिन पुष्पवान। ऊखीमठ के सरस्वती विद्या मंदिर में पढ़ने वाले जतिन ने हाईस्कूल में उत्तराखंड में तीसरा स्थान हासिल किया है। जतिन रोजाना मंगोली से करीब दो किलोमीटर पैदल चलकर स्कूल पहुंचते हैं। इस होनहार ने बिना ट्यूशन गए ही इतिहास रचा है। जतिन पुष्पवाण 500 में 489 नंबर लाए और तीसरे नंबर पर रहे। 97,8 फीसदी अंकों के जरिए जतिन ने अपनी प्रतिभा साबित की है। जिस दौर में बच्चों के लिए ट्यूशन सबसे ज्यादा जरूरी है, उस दौर में जतिन घर में ही पढ़ाई करते हैं। लाइट का कोई भरोसा नहीं, कब आए और कब जाए, इसलिए बैटरी से ही काम चलाना पड़ता है।

यह भी पढें - उत्तराखंड का टॉपर बेटा, बिना ट्यूशन गए रच दिया इतिहास, गणित में 100 में से 100
यह भी पढें - पहाड़ की टॉपर बेटी, मां ने गाय का दूध बेचकर पढ़ाया..दो साल पहले गुजर गए थे पिता
राज्य समीक्षा से खास बातचीत में जतिन के पिता रणवीर सिंह पुष्पवान का कहना है कि उनका बेटा परीक्षा के दिनों में सिर्फ दो घंटे सोता था। रात के दो बजे तक पढ़ना और सुबह चार बजे उठ जाना जतिन पुष्पवान की दिनचर्या बन गया। ऐसा नहीं है कि जतिन को सिर्फ पढ़ाई का शौक है। वो खेलकूद में भी माहिर है। ऊखीमठ के सरस्वती विद्या मंदिर के 10वीं के छात्र जतिन आज कई बच्चों के लिए प्रेरणा बन गए हैं। खास बात ये है कि जतिन के स्कूल से ही इस बार मैपिट लिस्ट में तीन छात्रों ने जगह बनाई है। जतिन की मां का नाम प्रमिला पुष्पवान है और वो आंगनबाड़ी में काम करती हैं। जतिन जैसे बच्चों पर गर्व इसलिए होता है क्योंकि आज के दौर में बच्चों को पढ़ाने के लिए लोग शहरों का रुख कर रहे हैं। ऐसे में आपदा ग्रस्त गांव के लड़के जतिन ने इस कोरे दिखावे को आईना दिखाने का काम किया है। शाबाश


Uttarakhand News: Ukhimath Jatin pushpwan top merit list of uttarakhand board

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें