उत्तराखंड में वायुसेना का ऑपरेशन ‘गगन शक्ति’, उत्तरकाशी, टिहरी और चमोली में गरजे लड़ाकू विमान

उत्तराखंड में वायुसेना का ऑपरेशन ‘गगन शक्ति’, उत्तरकाशी, टिहरी और चमोली में गरजे लड़ाकू विमान

Indian air force and army war practice in uttarakhand  - उत्तराखंड न्यूज, भारतीय वायुसेना, भारतीय सेना ,उत्तराखंड,

जैसा कि हम बार बार कहते हैं कि डोकलाम विवाद के बाद से चीन खामोश नहीं बैठा है। चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने साफ चेतावनी दी थी कि भारत में अपनी पैठ बनाने के लिए उत्तराखंड और तिब्बत के इलाकों पर नजर है। उसी दौर में खबर आई थी कि चमोली के बाराहोती सेक्टर में दो चीनी हेलीकॉप्टर देखे गए। उत्तराखंड अब सामरिक दृष्टि के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण साबित हो रहा है। इस वजह से उत्तराखंड में भारतीय सेना और वायुसेना का ऑपरेशन गगन शक्ति जारी है। किसी भी संकट की घड़ी से उबरने के लिए और दुश्मन को माकूल जवाब देने के लिए वीर लगातार युद्धाभ्यास कर रहे हैं। गुरुवार को सुखोई-30 और एमआइ-17 जैसे विमानों ने उत्तरकाशी और चमोली के सीमावर्ती इलाकों में उड़ानें भरीं। इस ऑपरेशन की कुूछ और भी खास बातं जानिए।

यह भी पढें - नहीं रहे गैरसैँण के होनहार युवा शिक्षक, 5 दिन बाद सामने आई मौत की वजह !
इसके अलावा चमोली के गौचर में एयरफोर्स के जवानों द्वारा पैराशूट से उतरने का अभ्यास किया गया। दुश्मन उत्तराखंड में भी इन दिनों वायुसेना और थल सेना का युद्धाभ्यास चल रहा है। वायुसेना के फाइटर विमान इसमें हिस्सा ले रहे हैं। गौचर पट्टी पर करीब 19 पैराशूट उतारे गए। उधर सुखोई-30 जैसे लड़ाकू विमान ने उत्तर प्रदेश के इटावा और देहरादून के जौलीग्रांट हवाई अड्डे से उड़ानें भरी। शुक्रवार को वायु सेना की एक टीम एमआइ-17 हेलीकाप्टर से हर्षिल से मातली आई। उत्तरकाशी में सैन्य अभ्यास के लिए हेलीपैड और हवाई पट्टी की 20 अप्रैल तक की इजाज़त ली गई थी। उधर सेना के पैरा कमांडोज द्वारा टिहरी झील में अभी युद्धाभ्यास किया गया है। इस दौरान 250 मीटर की ऊंचाई से छलांग लगाकर जवानों ने अपने बुलंद हौसलों की मिसाल पेश की।

यह भी पढें - कपाट खुलते ही गंगोत्री-यमुनोत्री में टूटे रिकॉर्ड, जून तक की बुकिंग फुल हो गई
खबर है कि उत्तरकाशी जिले की चिन्याली सौड़ हवाई पट्टी पर 17 और 18 अप्रैल को सैन्य अभ्यास किया गया। आपको याद होगा कि बीते साल और इस साल फरवरी तक वायुसेना के अधिकारी चिन्यालीसौड़ हवाई पट्टी का निरीक्षण कर चुके हैं। फरवरी में यहां एएन 32 विमान से टेक ऑफ और लैंडिंग करवाई गई थी। वायुसेना के हरक्यूलिस विमान से भी इस हवाई पट्टी का टेस्ट हो चुका है। इसके साथ ही खबर है कि चमोली जिले में गैरसैंण के पास एक और हवाई पट्टी को तैयार करने के लिए जमीन का सर्वे किया जा रहा है। कुल मिलाकर कहें तो उत्तराखंड में वायुसेना और थल सेना का ऑपरेशन ‘गगन शक्ति’ जारी है। उत्तरकाशी, टिहरी और चमोली जिलों में लड़ाकू विमानों की गर्जना साफ बयां कर रही है कि दुश्मन अगर आंखें डालेगा, तो जवाब की करारा मिलेगा।


Uttarakhand News: Indian air force and army war practice in uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें