देहरादून में ऑटो वालों की ‘लूट’ बंद, 1 मई से सख्त नियम लागू, आम आदमी को राहत

देहरादून में ऑटो वालों की ‘लूट’ बंद, 1 मई से सख्त नियम लागू, आम आदमी को राहत

Dehradun govt is strict on auto drivers - उत्तराखंड न्यूज, देहरादून ऑटो, त्रिवेंद्र सिंह राव,उत्तराखंड,

सरकार अब मनमानी कर रहे ऑटो वालों के खिलाफ सख्त दिख रही है। साफ देखआ जा रहा है कि देहरादून में खास तौर पर ऑटो वाले मनमाना किराया वसूलते हैं। लेकिन अब ये मनमानी नहीं चलेगी। दरअसल सरकार एक मई से सख्त नियम ला रही है। इस नियम के तहत ऑटोवालों को अब मीटर लगाना होगा, मीटर के हिसाब से चलना होगा। अगर ऑटो वाले मीटर के हिसाब से नहीं चलेंगे तो आपत्रिवेंद्र सरकार से इस बारे में शिकायत कर सकते हैं। सरकार ने एक मई से देहरादून शहर में सभी ऑटो पर मीटर लगाने के निर्देश दिए हैं। हालांकि सरकार के इस फैसले का ऑटो वाले विरोध कर रहे थे लेकिन सरकार ने साफ कहा है कि 1 मई के बाद से मीटर के बिना ऑटो चलने नहीं दिया जाएगा। जिस तरह से दिल्ली में ऑटो पर मीटर लगाना जरूरी है, उसी तरह देहरादून में भी होगा।

यह भी पढें - उत्तराखंड में परचून की दुकान में नहीं मिलेगी शराब, ये कोरी अफवाह है-त्रिवेंद्र सिंह रावत
देहरादून को स्मार्ट सिटी बनाने के मद्देनजर यहां परिवहन सुविधाओं में भी सुधार किया जा रहा है। इससे पहले सरकार ये फैसला कर चुकी है कि डीजल और पेट्रोल से चलने वाले ऑटो अब देहरादून से बाहर होंगे। इनकी जगह इलेक्ट्रिक ऑटो के परमिट को मंजूरी मिलेगी। सरकार ने साफ कर दिया है कि किराये में 'लूट-खसोट' हो रही है और सरकार इसे रोकने के लिए बैकफुट पर नहीं आएगी। स्पष्ट आदेश दे दिए गए हैं कि एक मई से बिना किराया मीटर कोई ऑटो शहर में नहीं चलेगा। जब ऑटो में किराए का मीटर लगा होगा और ऑटो चालू होगा, तभी फिटनेस सर्टिफिकेट दिया जाएगा। सरकार के सख्त तेवर देखकर ऑटो यूनियन संचालक भी अब लाइन पर आ गए हैं। ऑटो चालक बिना वर्दी में ऑटो चला रहे हैं, जहां तहां ऑटो खड़ा करना इनका शगल बन गया है।

यह भी पढें - उत्तराखंड में भी योगी आदित्यनाथ वाला फॉर्मूला, अब ‘फीस के लुटेरे’ सावधान हो जाएं !
कई बार ऑटो वालों की मनमानी को देखकर पुलिसवालों पर भी सवाल उठते हैं। आलम तो ये हो गया है कि ऑटो वाले मनमाना किराया वसूलते हैं और कई बार तो यात्रियों से भी दबंगई दिखाते हैं। रात में यात्रियों की मजबूरी का फायदा उठाया जाता है और तय किराये से कई गुना ज्यादा किराया वसूल लिया जाता है। जितने किराए में आम आदमी दिल्ली से बस में देहरादून तक आता है, उतना ही किराया लेकर ऑटो वाले देहरादून में ही ठग लेते हैं। ऑटो चालकों के लिए अब भूरे रंग की वर्दी निर्धारित की गई है। वर्दी पर नेम प्लेट भी लगी होना जरूरी है। लेकिन आलम ये है कि शहर में कोई ऑटो वाला वर्दी में ही नहीं दिखता। इस वजह से ऑटो वाले की पहचान करना ही मुश्किल हो जाता है। अब देहरादून में इलेक्ट्रिक के साथ ही एलपीजी ऑटो भी दौड़ सकेंगे।


Uttarakhand News: Dehradun govt is strict on auto drivers

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें