uttarakhand investers summit dehradun 2018 latest news

उत्तराखंड और हिमाचल के लिए वैज्ञानिकों की चेतावनी, रिसर्च के बाद रिपोर्ट में बड़ा खुलासा !

उत्तराखंड और हिमाचल के लिए वैज्ञानिकों की चेतावनी, रिसर्च के बाद रिपोर्ट में बड़ा खुलासा !

Uttarakhand and himachal are in danger says report-0318  - उत्तराखंड न्यूज, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड,

देश के दो राज्यों के लिए वैज्ञानिकों ने विनाशकारी चेतावनी दी है। इसकी वजह है ग्लेशियरों में बनने वाली झीलें। जी हां वैज्ञानिकों का साफ तौर पर कहना है कि ग्लेशियरों पर जलवायु परिवर्तन का सबसे बुरा असर पड़ रहा है। इस वजह से इनमें कई ज्यादा ग्लेशियर झीलें तैयार हो रही हैं। देहरादून के वाडिया हिमालय भू विज्ञान संस्थान के विज्ञानियों ने इसे लेकर बड़ी बात बताई है। वैज्ञानिकों ने ग्लेशियर झीलों की इन्वेंटरी तैयार की है। इस इन्वेंटरी में इन बातों का खुलासा किया गया है। हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड की झीलों के मानचित्रण का काम पूरा कर लिया गया है। खास बात ये है कि हिमाचल प्रदेश को इससे ज्यादा खतरा है। हिमाचल में ग्लेशियर झीलों की तादात उत्तराखंड से तीन गुना ज्यादा है। दरअसल 2013 में केदारनाथ में भयंकर आपदा आई थी। उस दौरान ना जाने कितनी जिंदगियां बाढ़ में ही समा गई थीं। कहा गया था कि केदारनाथ के ऊपर मौजूद चौराबाड़ी झील के फटने से ये तबाही आई थी।

यह भी पढें - उत्तराखंड के लिए मौसम विभाग की वॉर्निंग, अगले 24 घंटे 6 जिले सावधान रहें !
यह भी पढें - सावधान उत्तराखंड ! भू-विशेषज्ञों ने दी ‘हाहाकारी’ चेतावनी...जमीन धधक रही है !
उस दौरान केदारनाथ त्रासदी का मंजर देश दुनिया ने देखा था। इसके बाद वैज्ञानिकों ने ये ये जरूरत महसूस की और इसके बाद ग्लेशियर क्षेत्रों की झीलों का मानचित्रण किया गया। वैज्ञानिकों का कहना है कि इससे झीलों के बारे में वास्तविक स्थिति का पता लग रहा है। इसके साथ ही वक्त रहते कुछ उपाय किए जा सकेंगे। वैज्ञानिकों का कहना है कि झीलों के फटने से तबाही पर कंट्रोल करना मुश्किल होगा। वाडिया हिमालय भू विज्ञान संस्थान के वैज्ञानिकों ने पहले फेज़ में उत्तराखंड की सभी झीलों का मैप तैयार किया। इसके बाद दूसरे फेज़ में हिमाचल प्रदेश के ग्लेशियर झीलों की मैपिंग का काम पूरा कर दिया गया है। इस रिपोर्ट को वाडिया हिमालय भू विज्ञान संस्थान की पत्रिका हिमालयन जियोलोजी में प्रकाशित कर दिया गया। अब जानिए इसकी खास बातें क्या हैं। इस रिपोर्ट में बताया गया है कि उत्तराखंड में 1474 ग्लेशियरों में 1266 झीलें मिली हैं।

यह भी पढें - सावधान उत्तराखंड ! भू-विशेषज्ञों ने दी ‘हाहाकारी’ चेतावनी...जमीन धधक रही है !
यह भी पढें - उत्तराखंड पर एटम बम से भयानक ऊर्जा वाले भूकंप का खतरा, पद्मश्री वैज्ञानिक का खुलासा
उत्तराखंड में 21481 वर्ग किमी क्षेत्र में फैली ये झीलें कभी भी बड़ा खतरा बन सकती हैं। इनमें ग्लेशियर बॉडी में तैयार होने वाली झीलों सुप्रा ग्लेशियर की तादात 809 है। हिमाचल के 3199 वर्ग किलोमीटर एरिया में 3273 ग्लेशियर है। यहां कुल झीलों की संख्या 958 है और सुप्रा ग्लेशियर झीलों की संख्या 228 है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि गढ़वाल ग्लेशियर निम्न अक्षांशों पर है। इस वजह से यहां सोलर रेडिएशन ज्यादा है। जलवायु परिवर्तन की वजह से यहां बर्फबारी कम और बारिश ज्यादा हो रही है। इस वजह से ग्लेशियरों में गलन ज्यादा है। इस क्षेत्र में मानसून ज्यादा प्रभावित हुआ है। इस वजह से आने वाले वक्त में यहां जलस्रोतों की भी परेशानी हो सकती है। कुल मिलाकर कहें तो देश के दो राज्य उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश विनाशकारी खतरे से जूझ रहे हैं। देखना है आगे क्या होता है।


Uttarakhand News: Uttarakhand and himachal are in danger says report-0318

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें