उत्तराखंड में तीन जगहों से शुरू होगी सी-प्लेन सर्विस, टिहरी बांध के लिए कुछ खास है

उत्तराखंड में तीन जगहों से शुरू होगी सी-प्लेन सर्विस, टिहरी बांध के लिए कुछ खास है

Sea plane to fly in tehri dam of uttarakhand  - सी प्लेन, उत्तराखंड न्यूज, टिहरी बांध ,उत्तराखंड,

पीएम मोदी ने कुछ वक्त पहले एक प्लान तैयार किया था, लगता है वो प्लान अब परवान चढ़ रहा है। केंद्र सरकार की भारत में कम से कम 100 सी प्लेन से सेवा शुरू करने की योजना है। इसकी खूबियां क्या होंगी, ये सब हम आपको बताएंगे, लेकिन उससे पहले आपको बता दें कि इसके शुरुआती फेज़ में देश की करीब 111 नदियों का हवाई पट्टी के तौर पर इस्तेमाल होगा। बताया जा रहा है कि अब उत्तराखंड में नानकमत्ता और आसन बैराज में भी सरकार इस योजना को शुरु करने जा रही है। खास बात ये है कि उत्तराखंड की शान टिहरी बांध में इसके लिए पहले फेज़ का सर्वे हो चुका है। मोदी सरकार की योजना है कि सी-प्लेन हर शहर, हर गांव में पहुंचे। इसीलिए सरकार सी-प्लेन की उड़ाने के लिए नियमों को तीन माह के अंदर पूरा करने पर विचार कर रही है।इसमें टिहरी झील को शामिल किया गया है।

यह भी पढें - खुशखबरी : देहरादून इंटरनेशनल स्टेडियम में होगी पहली वनडे सीरीज...टीमें तैयार हैं
यह भी पढें - देहरादून में दौड़ेगी मेट्रीनो, जाम से मिलेगी राहत, ऐसी हैं हाईटेक खूबियां
इसके बाद विकासनगर के आसन बैराज और ऊधमसिंह नगर के नानकमत्ता से भी सी-प्लेन की सेवा शुरू करने की योजना बनाई गई है। नानकमत्ता से सी-प्लेन सेवा शुरू करने का एक मुख्य कारण है। यहां गुरुद्वारा नानकमत्ता साहिब है, जो सिखों की आस्था का प्रमुख केंद्रबिंदु है। इससे श्रद्धालुओं को सफर में आसानी होगी। खास बात ये भी है कि नानकमत्ता में बांध भी है। यहां से सी-प्लेन सेवा आसानी से चलाई जा सकती है। ऋषिकेश स्थित बैराज पर भी सी-प्लेन की योजना का सर्वे का किया जाना है। केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय की टीम जल्द ही यहां सर्वे के लिए आएगी। खास बात ये है कि टिहरी डैम का प्रारंभिक सर्वे हो चुका है। जल्द ही यहां सी-प्लेन उतारने का ट्रायल होगा। अब जानिए कि सी-प्लेन की खास बातें क्या हैं। सी-प्लेन जमीन और पानी दोनों जगहों से उड़ान भर सकता है।

यह भी पढें - उत्तराखंड का पहाड़ी गांव, जहां आजादी के बाद पहली बार पहुंची बस...लोगों ने आरती उतारी
यह भी पढें - स्मार्ट सिटी देहरादून, अब और भी ज्यादा स्मार्ट...विक्रम OUT, इलेक्ट्रिक ऑटो IN !
सी प्लेन को पानी और जमीन पर लैंड कराया जा सकता है। सिर्फ 300 मीटर के रनवे से सी प्लेन उड़ान भर सकता है।खास बात ये है कि इससे गढ़वाल से कुमाऊं पहुंचने में सिर्फ 25 मिनट का वक्त लगेगा। इसके लिए 300 मीटर की लंबाई वाला जलाशय हवाई-पट्टी का काम कर सकता है। दुनिया में करीब 200 कोडियेक क्वेस्ट एयरक्राफ्ट उड़ाए जा रहे हैं और कनाडा में सी-प्लेन सेवा सबसे ज्यादा है। फिलहाल देश में सी प्लेन के लिए कोई नियम नहीं हैं। नानकमत्ता और आसन बैराज में सी-प्लेन उतारने की संभावनाओं को तलाशने के लिए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय की टीम यहां आएगी। टिहरी डैम में ये टीम सी-प्लेन को उतारने का सर्वे कर चुकी है। अब जल्द ही यहां सी-प्लेन उतारने का ट्रायल भी किया जाएगा। नागरिक उड्डयन मंत्रालय की टीम जल्द ही यहां सी-प्लेन उतारने का ट्रायल करेगी। केंद्र सरकार ने हर किसी की यात्रा को सुगम और सस्ता बनाने के लिए सी-प्लेन चलाने की योजना बनाई है।


Uttarakhand News: Sea plane to fly in tehri dam of uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें