uttarakhand investers summit dehradun 2018 latest news

Video: माफ करना भव्या बेटी ! उत्तराखंड ऐसा नहीं था लेकिन अब हो गया है

Video: माफ करना भव्या बेटी ! उत्तराखंड ऐसा नहीं था लेकिन अब हो गया है

Woman cried in front of cabinet minister of uttarakhand  - उत्तराखंड न्यूज, सुबोध उनियाल ,

बहुत उम्मीदें थी भव्या की मां को भी। एक बेटी आंगन में आएगी और अपनी किलकारियों से घर आंगन का गुंजायमान करेगी। बेटी...ये शब्द जब जुबां पर आता है तो एक प्यारा सा अहसास हमारे मन को शांति देता है। भगवान का दिया एक अनमोल तोहफा और जब ये तोहफा पेट में हो तो इसे सहेजने की जिम्मेदारी डॉक्टर की भी होती है। हम ये बात आपको इसलिए बता रहे हैं क्योंकि देहरादून के बीजेपी मुख्यालय में एक मां इस तरह रोई कि सभी का दिल पसीज गया। एक मां ने अपनी नौ महीने की बच्ची को उत्तराखंड के कृषि मंत्री की टेबल पर रख दिया। न्याय की गुहार के लिए ये मां तीन घंटे तक धरने पर बैठी रही। देहरादून के कौलागढ़ की रहने वाली कुमकुम की बेटी डाउन सिंड्रोम से पीड़ित है। कुमकुम की शिकायत है कि देहरादून की डॉक्टर अर्चना लूथरा के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।

यह भी पढें - Video: उत्तराखंड में एक लड़की ने मर्द बनकर दो महिलाओं से की शादी, 4 साल बाद खुलासा
यह भी पढें - देवभूमि में महापाप ! बेटों ने अपनी विधवा मां को पीट-पीटकर मार डाला...फिर आग लगा दी !
डाउन सिंड्रोम एक लाइलाज बीमारी है और कुमकुम की 9 महीने की बेटी भव्या को शायद ताउम्र ऐसी ही हालत में रहना पड़ेगा। लेकिन गलती किसकी है ? जिसकी भी गलती है, उसे अब तक सज़ा क्यों नहीं दी गई ? अगर ये गलती डॉक्टर की है, तो इतनी खामोशी क्यों है भाई ? एक्सपर्ट्स बताते हैं कि जब बच्चा गर्भ में होता है तो इस दौरान ही डाउन सिंड्रोम का टेस्ट किया जाता है। एक वेबसाइट का कहना है कि कुमकुम ने भी 15 वें हफ्ते के गर्भ के दौरान डाउन सिंड्रोम टेस्ट किया गया था। इस टेस्ट में पेट में पल रहे नवजात को डाउन सिंड्रोम का हाई रिस्क बताया गया था। कुमकुम का आरोप है कि उनका इलाज कर रही डॉक्टर अर्चना लूथरा ने इसे लो रिस्क बताया और गर्भावस्था जारी रखने की सलाह दी। कुमकुम ने अप्रैल 2017 में डा. अर्चना लूथरा के क्लीनिक में एक बच्ची को जन्म दिया।

यह भी पढें - Video: उत्तराखंड पुलिस का ये वीडियो शर्मनाक है, थाने में ड्यूटी के दौरान दारू पार्टी !
यह भी पढें - जन्म लिंगानुपात में पूरे देश में केवल हरियाणा के ऊपर उत्तराखंड : नीति आयोग
ये बच्ची ऑपरेशन के बाद हुई थी। बच्ची के पैदा होने के बाद माता-पिता को पता चला कि बच्ची को डाउन सिंड्रोम जैसी लाइलाज बीमारी है। अब कुमकुम का कहना है कि डॉक्टर अर्चना लूथरा इसके लिए जिम्मेदार हैं। कुमकुम ने डॉक्टर पर तथ्य छुपाने का आरोप लगाया है। बताया तो ये भी जा रहा है कि कुमकुम आठवीं बार जनता दरबार में पहुंची। बीते आठ महीने से एक मां मंत्रियों, डॉक्टरों, अस्पतालों के चक्कर काट रही है। कैबिनेट मंत्री का कहना है कि दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। लाइव हिंदुस्तान द्वारा तैयार किया गया ये वीडियो भी देखिए।

YouTube चैनल सब्सक्राइब करें -

Uttarakhand News: Woman cried in front of cabinet minister of uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें