वो सिर्फ उत्तराखंड में ही बचा है...जिसके लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक बेताब है !

वो सिर्फ उत्तराखंड में ही बचा है...जिसके लिए दुनियाभर के वैज्ञानिक बेताब है !

Benefits of vajradanti which founds in uttarakhand  - उत्तराखंड न्यूज, वज्रदंती,उत्तराखंड,

हैरानी की बात ये है कि उत्तराखंड में इस बहुमूल्य औषधि के होने के बाद भी कभी इस तरफ लोगों का ध्यान नहीं जाता। WHO यानी विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट कहती है कि वज्रदंती उत्तराखंड में सबसे ज्यादा पाया जाता है। खास तौर पर मदमहेश्वर घाटी में आप जाएंगे तो आपको यहां वज्रदंती हर जगह दिखेगा। इसके बाद भी आज तक इसके विकास और खेती के बारे में कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए। इसके बारे में भी जानिए। विश्व पर्यावरण संगठन कहता है कि उत्तराखंड में अनेक रोगों की एक दवा है, जिसका विस्तार करना बेहद जरूरी है और ये खत्म हुआ तो, दुनिया से एक अमूल्य औषधि खत्म हो जाएगी। अक्सर कई बार हमारे दातों की सही रुप से देखभाल नही करने से हमारे दातों सबंधी कई तरह की समस्या पैदा हो जाती है। जिसके लिए हम एक ऐसे वज्रदंती पौधे का इस्तेमाल कर सकते है जो हमारे दातों के लिए काफी उपयोगी हो सकता है।

यह भी पढें - बदरीनाथ धाम से जुड़ी अद्भुत परंपरा, सिर्फ कुंवारी कन्याएं कर सकती हैं ऐसा काम
यह भी पढें - Video: उत्तराखंड के इस मंदिर में हुई थी शिवजी और मां पार्वती की शादी, फिर मनाई गई शिवरात्रि !
वज्र दंती हमारी शरीर मे ना सिर्फ दांतो संबधी प्रोब्लम को दूर करने मे उपयोगी होता है बल्कि यह शरीर मे होने वाली कई तरह की परेशानी को दूर करने मे भी उपयोगी हो सकता है। जैसे की सांस संबधी बीमारी,खांसी की परेशानी जोडों मे दर्द की परेशानी यह पौधा हमारे शरीर मे जड़ी बूटियों की तरह से काम करने मे काफी उपयोगी माना गया है।तो चलिए जानते है कि आप किस तरह से इसका उपयोग आपके शरीर मे फायदा करता है।अगर आप इसका काढ़ा बनाकर पीतें है तो यह आपके शरीर के लिए काफी उपयोगी होगा। इसके ताजे पत्तों को लेकर उन्हे सुखाकर कटोरे मे पानी मे डाल कर काढ़ा बना लें। और उसे छान लें। इसके बाद दिन मे दो बार इसका यूज करने से ये आपके बुखार मे काफी उपयोगी होगा।अगर आपके मसूडो या दांतो से खून आ रहा है। दांतो मे सेंसिटाईजेसन की प्रोब्लम है या फिर दांतों मे कैविटी है तो आपके लिए व्रजदंती का पौधा काफी उपयोगी होगा।

यह भी पढें - उत्तराखंड के सिद्धबली धाम के बारे में आप ये बात जानेंगे, तो हनुमान जी की भक्ति में खो जाएंगे
यह भी पढें - पुरानी टिहरी, उत्तराखंड की शान थी ये जगह, जानिए इस ऐतिहासिक धरोहर की कहानी
इसकी जड़ं से तैयार जड़ीबूटी से कुल्ला करने से यह समस्याएं खत्म हो जाती है। और आप वज्र दंती के पत्तों या जड़ का पाउडर बनाकर उसे दंतमंजन की तरह से यूज कर सकते है। ये आपके लिए काफी उपयोगी होगा। व्रजदंती की पत्तियों का पेस्ट बनाकर आपके घावों सबंधी प्रोब्लम को दूर करने मे काफी उपयोगी होगा। और आपके दर्द मे भी राहत का काम करेगा। और सूजन सबंधी प्रोब्लम को भी दूर करेगा। यानी इतना समझ लीजिए कि भारत में होने वाली इस बहुमूल्य औषधि को आज सहेज कर रखने की जरूरत है। इसके अलावा भी इसके कई जबरदस्त फायदे हैं। ये आपके बालों के लिए भी काफी उपयोगी होगा। इसकी पत्तियों का पेस्ट बनाकर सिर पर लगाने से यह आपके बालों के लिए काफी उपयोगी होगा। यह आपके बालों की ग्रोथ तो बढ़ाएगा ही साथ ही आपकी फटी एडियों से निजात दिलाने मे भी काफी उपयोगी होगा।


Uttarakhand News: Benefits of vajradanti which founds in uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें