उत्तराखंड की सियासत का सुपरओवर, चैंपियन की यॉर्कर पर सीएम त्रिवेंद्र का सिक्सर !

उत्तराखंड की सियासत का सुपरओवर, चैंपियन की यॉर्कर पर सीएम त्रिवेंद्र का सिक्सर !

Cm trivendra singh rawat send back mla champion from stage - त्रिवेंद्र सिंह रावत, कुंवर प्रणव सिंह, उत्तराखंड ,उत्तराखंड,, बीजेपी

उत्तराखंड के खानपुर से बीजेपी विधायक कुंवर प्रणव सिंह चैंपियन दो दिन पहले बागी तेवर दिखा रहे थे। वो दिल्ली गए और बीजेपी सुप्रीमो अमित शाह से मुलाकात की। आपको याद होगा कि दो दिन पहले ही चैंपियन ने कहा था कि ‘’मंत्री-संत्री क्या होता है ? शेर तो हमेशा शेर ही रहता है।’’ अब दो दिन के भीतर ही ऐसा क्या हो गया कि चैंपियन को कहना पड़ा कि वो घुटने के बल मुख्यमंत्री से मिलने आएंगे। जी हां दरअसल सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत दून विश्वविद्यालय में 'आपकी राय, आपका बजट' कार्यक्रम का आयोजन कर रहे थे। मंच पर सिर्फ मुख्यमंत्री के लिए ही कुर्सी थी। मेहमानों और छात्रों के बैठने की व्यवस्था सामने की गई थी। करीब 12.45 बजे खानपुर विधायक चैंपियन शामियाने में पहुंचे। इसके बाद वो मंच की तरफ बढ़े। सुरक्षा गार्डों ने चैंपियन को रोकने की कोशिश की, इसके बाद भी वो आगे बढ़े।

यह भी पढें - देहरादून से पंतनगर सिर्फ 25 मिनट में, किराया देश में सबसे कम, इसी महीने से शुरुआत !
यह भी पढें - उत्तराखंड के पूर्व सीएम हरीश रावत का ट्वीट, मोदी सरकार की 'उड़ान' की तारीफ
ये देखकर सीएम त्रिवेंद्र का पारा चढ़ गया। सीएम ने तुरंत चैंपियन को हाथ से इशारा किया कि 'सामने बैठिए, बैठने जगह उधर है।' इसके बाद चैंपियन पहली पंक्ति में बैठ गए। ये आयोजन करीब डेढ़ बजे खत्म हुआ तो मीडिया से मुख्यमंत्री बातचीत करने लगे। तभी विधायक चैंपियन एक बार फिर हाथ में ज्ञापन लेकर त्रिवेंद्र सिंह रावत के पास पहुंचे। इसके बाद सीएम त्रिवेंद्र ने तल्ख तेवर अपनाते हुए कहा कि ‘’ये जगह ज्ञापन देने की नहीं है’। इसके बाद चैंपियन ने कहा कि ‘सर बात तो सुन लीजिए’। इसका जवाब भी सीएम त्रिवेंद्र ने सख्त अंदाज में दिया और कहा कि 'ये बात सुनने की भी जगह नहीं है।' इसके बाद सीएम छात्रों के साथ ग्रुप फोटो खिंचवाने लगे। चैंपियन ने एक बार फिर से सीएम त्रिवेंद्र के पास आने की कोशिश की, तो सीएम त्रिवेंद्र ने इशारों में ही कह दिया कि ‘दूर हो जाओ’।

यह भी पढें - देहरादून को मिलेगी 114 किलोमीटर लंबी रिंग रोड की सौगात, इन 35 इलाकों को बंपर फायदा
यह भी पढें - खुशखबरी: उत्तराखंड के इन जिलों में फरवरी से हवाई सेवा, किराया देश में सबसे कम होगा !
इसके बाद सीएम त्रिवेंद्र अपनी कार में बैठ निकल गए। इसके बाद मीडिया द्वारा चैंपियन से ही सवाल पूछा गया, तो उन्होंने कहा कि मीडिया के लोग उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहे हैं। इससे पहले उच्च शिक्षा मंत्री डॉ.धन सिंह रावत चैंपियन को चुप रहने की नसीहत दे चुके हैं। इस पर चैंपियन से सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ‘’धन सिंह रावत मेरे छोटे भाई हैं मैं उनकी सलाह को बुरा नहीं मानता’’। बताया जा रहा है कि कुवंर प्रणव सिंह चैंपियन पर संगठन द्वारा अनुशासनात्मक कार्रवाई भी शुरू हो गई है। सीएम त्रिवेंद्र की नाराजगी ने साफ कर दिया है कि प्रचंड बहुमत वाली ये सरकार किसी के बयान से थोड़ा असहज हो सकती है, लेकिन डरने वाली नहीं। खैर देखना होगा कि आगे इस मामले में और क्या होता है। इतना जरूर है कि उत्तराखंड की राजनीति में आजकल गजब का खेल चल रहा है।


Uttarakhand News: Cm trivendra singh rawat send back mla champion from stage

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें