देवभूमि उत्तराखंड का वो प्रतापी सम्राट, जिसके लिए मां गंगा ने अपनी धारा बदल दी थी

देवभूमि उत्तराखंड का वो प्रतापी सम्राट, जिसके लिए मां गंगा ने अपनी धारा बदल दी थी

Story of king medinishah of uttarakhand  - उत्तराखंड न्यूज, उत्तराखंड संस्कृति, मेदिनीशाह,उत्तराखंड,

उत्तराखंड में एक राजा हुए थे पृथ्वीपति शाह। उनके पुत्र का नाम था मेदिनीशाह। बताया जाता है कि मेदिनीशाह 1667 के आसपास राजा बने थे। माना जाता है कि मेदिनीशाह की औरंगजेब से मित्रता हो गयी थी और इसलिए उन्हें अपनी दादी रानी कर्णावती या पिता पृथ्वीपति शाह की तरह मुगलों से जंग नहीं लड़नी पड़ी थी। मेदिनीशाह को इसलिए याद किया जाता है क्योंकि कहा जाता है कि एक बार उनके लिये गंगा नदी ने भी अपनी धारा बदल दी थी। इसमें कितनी सच्चाई है कहा नहीं जा सकता। गढ़वाल के राजा को तब बदरीनाथ का अवतार भी माना जाता था और हो सकता हो कि राजा ने लोगों के सामने खुद को 'भगवान' साबित करने और अपने खिलाफ किसी भी तरह के विद्रोह को दबाने के लिये के लिये ये किस्सा गढ़कर फैलाया हो। ये भी हो सकता है कि राजा के पास तब ऐसे कुछ कुशल कारीगर रहे हों जिन्होंने रातों रात गंगा की धारा बदल दी हो।

यह भी पढें - देवभूमि के रूपकुंड का सबसे बड़ा रहस्य, यहां क्यों मिलते हैं कंकाल ? रिसर्च में हुआ खुलासा
यह भी पढें - देवभूमि में ही हैं इंसाफ और न्याय के देवता, यहां मनुष्य के हर कर्म का हिसाब होता है
वास्तव में तब क्या हुआ था इसकी सही जानकारी किसी को नहीं है।जिसके बारे में कहा जाता है कि मेदिनीशाह के राज्यकाल के दौरान इस तरह की घटना घटी थी। हरिद्वार में जब कुंभ मेला लगता था तो गढ़वाल का राजा हरी जी के कुंड में सबसे पहले स्नान करता था। उसके बाद ही बाकी राजाओं का नंबर आता था। जिस साल की ये घटना हुई, उस साल कहा जाता है कि कई राजा हरिद्वार पहुंचे थे। उन सभी ने सभा करके तय किया कि पर्व दिन पर सबसे पहले गढ़वाल का राजा स्नान नहीं करेगा। सभी राजा इस पर सहमत हो गये। यहां तक कि गढ़वाल के राजा को किसी तरह की जबर्दस्ती करने पर जंग के लिये तैयार रहने की चेतावनी भी दी गयी। बाकी सभी राजा एकजुट थे और गढ़वाल का राजा अलग थलग पड़ गया। मेदिनीशाह ने कहा कि ये पुण्य क्षेत्र है, यहां कुंभ मेला जैसा महापर्व का आयोजन हो रहा है इसलिए रक्तपात सही नहीं है। दूसरे राजा ही पहले स्नान कर सकते हैं।

यह भी पढें - मसूरी का नामकरण किसने किया ? हर दिन 12 बजे क्यों दागी जाती थी तोप ? आप भी जानिए
यह भी पढें - उत्तराखंड के अमर शहीद केसरी चन्द, सिर्फ 24 साल की उम्र में ही देश के लिए कुर्बान...नमन
उन्होंने अन्य राजाओं के पास जो संदेश भेजा था उसमें आखिरी पंक्ति ये भी जोड़ी थी कि, यदि वास्तव में गंगा मेरी है और उसे मेरा मान सम्मान रखना होगा तो वो स्वयं मेरे पास आएगी। बाकी राजा इस पंक्ति का अर्थ नहीं समझ पाये। वो अगले दिन गढ़वाल के राजा से पहले कुंड में स्नान करने की तैयारियों में जुट गये। कहा जाता है कि गढ़वाल के राजा ने चंडी देवी के नीचे स्थित मैदान पर अपना डेरा डाला और मां गंगा की पूजा में लीन हो गये। बाकी राजा सुबह हरि जी के कुंड यानि हरि की पैड़ी में स्नान के लिये पहुंचे लेकिन वहां जाकर देखते हैं कि पानी ही नहीं है। मछलियां तड़प रही थी। गंगा ने अपना मार्ग बदल दिया था। वो गढ़वाल के राजा के डेरे के पास से बह रही थी। राजा मेदिनीशाह ने गंगा पूजन करने के बाद स्नान किया। जब अन्य राजाओं को पता चला तो उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ। उन्हें भी लगा कि गढ़वाल का राजा वास्तव में भगवान बदरीनाथ का अवतार हैं।


Uttarakhand News: Story of king medinishah of uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें