देवभूमि के रूपकुंड का सबसे बड़ा रहस्य, यहां क्यों मिलते हैं कंकाल ? रिसर्च में हुआ खुलासा

देवभूमि के रूपकुंड का सबसे बड़ा रहस्य, यहां क्यों मिलते हैं कंकाल ? रिसर्च में हुआ खुलासा

This is why escalations found in roopkund - उत्तराखंड न्यूज, रूपकुंड झील ,उत्तराखंड,

दुनिया में ऐसी कई रहस्यमयी जगहें हैं, जिनके बारे में सुनकर काफी हैरत होती है। हालांकि, इस मामले में उत्तराखंड भी पीछे नहीं हैं। आज हम आपको उत्तराखंड की ऐसी जगह के बारे में बताने जा रहे हैं, जो लोगों के लिए रहस्य बनी है। उत्तराखंड के चमोली जिले में स्थित रूपकुंड झील को इंसानी खोपड़ी की झील भी कहा जाता है। ये झील लोगों के लिए आज भी रहस्य बनी हुई है क्योंकि यहां अब तक 600 से ज्यादा पुरानी इंसानी खोपड़ियां मिल चुकी हैं। अब लंबे वक्त बाद आखिरकार उत्तराखंड के रूपकुंड में कंकाल झील के रहस्‍य से पर्दा उठ गया है। वैज्ञानिकों का कहना है कि जमी झील के पास मिले लगभग 200 कंकाल नौवीं सदी के उन भारतीय आदिवासियों के हैं जो ओले की आंधी में मारे गए थे। इन कंकालों को सबसे पहले साल 1942 में ब्रिटिश फॉरेस्‍ट गार्ड ने देखा था।

यह भी पढें - Video: गढ़वाल राइफल...सबसे ताकतवर सेना, शौर्य की प्रतीक वो लाल रस्सी, कंधों पर देश का जिम्मा
यह भी पढें - देहरादून ने दी ताकत, मसूरी ने दिया ज्ञान, ऐसे 6000 करोड़ का मालिक बना सिम बेचने वाला
शुरुआत में माना जा रहा था कि ये नर कंकाल उन जापानी सैनिकों के थे जो द्वितीय विश्‍व युद्ध के दौरान इस रास्‍ते से गुजर रहे थे, लेकिन अब वैज्ञानिकों को पता चला है कि ये कंकाल 850 ईसवी में यहां आए श्रद्धालुओं और स्‍थानीय लोगों के हैं। शोध से खुलासा हुआ है कि कंकाल मुख्‍य रूप से दो समूहों के हैं। इनमें से कुछ कंकाल एक ही परिवार के सदस्‍यों के हैं, जबकि दूसरा समूह अपेक्षाकृत कद में छोटे लोगों का है। शोधकर्ताओं का कहना है कि उन लोगों की मौत किसी हथियार की चोट से नहीं बल्कि उनके सिर के पीछे आए घातक तूफान की वजह से हुई है। खोपड़ियों के फ्रैक्चर के अध्ययन के बाद पता चला है कि मरने वाले लोगों के ऊपर क्रिकेट की गेंद जैसे बड़े ओले गिरे थे।'कंकाल झील' के नाम से मशहूर ये झील हिमालय पर लगभग 5,029 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है।

यह भी पढें - देवभूमि में ही हैं इंसाफ और न्याय के देवता, यहां मनुष्य के हर कर्म का हिसाब होता है
यह भी पढें - मसूरी का नामकरण किसने किया ? हर दिन 12 बजे क्यों दागी जाती थी तोप ? आप भी जानिए
पहले कहा जाता था कहा जाता था कि ये खोपड़ियां कश्‍मीर के जनरल जोरावर सिंह और उसके आदमियों की हैं, जो 1841 में तिब्‍बत के युद्ध से लौट रहे थे और खराब मौसम की जद में आ गए। ऐसा भी कहा जाता था कि ये लोग संक्रामक रोग की चपेट में आ गए होंगे या फिर तालाब के पास आत्‍महत्‍या की कोई रस्‍म निभाई गई होगी। कुल मिलाकर कह सकते हैं कि ताजा शोध के मुताबिक रूपकुंड में मिले कंकालों का रहस्य से ही है कि वहां कभी बर्फीले तूफान की चपेट में आने से लोगों की मौत हुई थी। नंदा देवी राजजात यात्रा के दौरान रूपकुंड यात्रा का आखिर पड़ाव होता है। कहा जाता है कि कभी मां पार्वती इस कुंड में अपना रूप निहारती थी, इस वजह से इस जगह को रूपकुंड कहा गया है। नंदादेवी राजजात के दौरान यहां से ‘चौसिंगा मैडा’ ही आगे जाता है। नंदा देवी राजजात के दौरान इस मार्ग में काफी तादाद में श्रद्दालु आते हैं।


Uttarakhand News: This is why escalations found in roopkund

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें