गढ़वाल के गरीब परिवारों पर चूना लगाकर चले गए बॉलीवुड वाले, उन्हें शर्म तक नहीं आई

गढ़वाल के गरीब परिवारों पर चूना लगाकर चले गए बॉलीवुड वाले, उन्हें शर्म तक नहीं आई

Allegation of fraud against kedarnath film producers  - उत्तराखंड न्यूज, केदारनाथ फिल्म ,उत्तराखंड,

सवाल नीयत का है जनाब...और जिस तरह से गढ़वाली युवाओं को धोखा दिया गया है उसे नीयत नहीं बल्कि बदनीयत कहा जाता है। वो गढ़वाल की वादियों में आए थे, आते वक्त तो कहा था कि यहां के लोग बेहद ही शांत और सुशील हैं। लेकिन जाते वक्त भोले -भाले गढ़वालियों को ही चूना लगाकर चले गए। जी हां आपको याद होगा कि कुछ वक्त पहले बॉलीवुड के डायरेक्टर और प्रोड्यूसर अभिषेक कपूर अपनी फिल्म ‘केदारनाथ’ की शूटिंग के लिए रुद्रप्रयाग जिले में आए थे। इस दौरान फिल्म के निर्माता ने स्थानीय युवाओं से फिल्म के क्रू के लिए कुछ काम करवाया था। बताया जा रहा है कि उन युवाओं का भुगतान अभी तक नहीं हुआ है। युवा अब धीरे धीरे इसके विरोध में सामने आने लगे हैं। रुद्रप्रयाग के इन युवाओं ने जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल से इस बारे में शिकायत की है।

यह भी पढें - Video: देवभूमि की संस्कृति पर फिदा बॉलीवुड, केदारनाथ में सुशांत बोले खास बात !
यह भी पढें - केदारनाथ को बॉलीवुड का प्रणाम, शूटिंग के लिए रुद्रप्रयाग पहुंचे सुशांत सिंह राजपूत !
इसके साथ ही खास बात ये है कि मंगेश घिल्डियाल ने इस पर उचित कार्रवाई करने की बात कही है। केदारघाटी के ऐसे 35 से ज्यादा युवा हैं, जिनका इस फिल्म के निर्माताओं द्वारा बेवकूफ बनाया गया है। अगर ऐसा होता तो युवाओं को उनकी मेहनत का मोल दिया जाता। आपको जानकर हैरानी होगी कि एक युवक का 35 हजार रुपये बकाया है। ऐसे 35 युवक हैं और सभी का अलग अलग बकाया है। ऐसे में सवाल ये उठता है कि आखिर क्यों इन भोले-भाले युवाओं से इस तरह खिलवाड़ किया गया ? जून 2013 की केदारनाथ आपदा पर फिल्म 'केदारनाथ' तैयार की जा रही है। इस फिल्म की शूटिंग करीब सवा महीने केदारघाटी के त्रियुगीनारायण गांव के अलावा सोनप्रयाग, गौरीकुंड, केदारनाथ धाम, चोपता में की गई।

यह भी पढें - Video: देवभूमि का छोरा बना देश की धड़कन, इस उत्तराखंडी गीत ने बॉलीवुड को दी टक्कर
यह भी पढें - Video: पहाड़ की बेटी के साथ हिंदुस्तान, ये शेरनी सा जिगर पहाड़ी बेटियों का होता है !
फिल्म निर्माता के आश्वासन पर स्थानीय युवा फिल्म यूनिट के सलिए तमाम व्यवस्थाएं करते रहे। लेकिन वाह रे फिल्म निर्माताओ...युवाओं को उनका हक यानी उनका मेहनताना देना भी मुनासिब नहीं समझा। त्रियुगीनारायण के ही रहने वाले राजेश भट्ट का कहना है कि उसे 35 हजार रुपये का चूना लगा लिया गया। निर्माता ने ये पैसा खाते में डालने की बात कही थी। लेकिन फिल्मी दुनिया की तरह ये वादे भी फुर्र हो गए। दो महीने से ज्यादा वक्त हो गया और उसके खआते में पैसा नहीं आया। अब ऐसा तो नहीं हो सकता है कि मुंबई पहुंचते ही फिल्म के निर्माता के पास पैसा खत्म हो गया है। गांव के ही सुधीर गैरोला का कहना है कि गांव के कई लोगों ने इस काम के लिए मजदूरी की, लेकिन उसका भुगतान आज तक नहीं मिला। जिलाधिकारी मंगेश को इस पर सख्त कदम उठाना होगा।


Uttarakhand News: Allegation of fraud against kedarnath film producers

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें