uttarakhand investers summit dehradun 2018 latest news

HNB गढ़वाल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव निलंबित, वीसी ने जारी किए आदेश

HNB गढ़वाल यूनिवर्सिटी के कुलसचिव निलंबित, वीसी ने जारी किए आदेश

Hnb vc suspend its registrar - उत्तराखंड न्यूज, एचएनबी गढ़वाल यूनिवर्सिटी

एचएनबी गढ़वाल यूनिवर्सिटी में आजकल एक बड़ा मुद्दा गर्माया हुआ है। कुलपति और और कुलसचिव के बीच एक तरह से रार तन गई है। दरअसल खबर आई है कि HNB गढ़वाल विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ एके झा को निलंबित कर दिया गया है। डॉ एके झा को कुलपति के आदेशों के बाद निलंबित किया गया है। VC ने इस संबंध में आदेश जारी किया। इसके बाद वीसी ने कुलसचिव डॉ एके झा पर बड़ा आरोप भी लगाया है। इस आरोप के बाद ये सवाल भी उठ रहा है कि क्या गढ़वाल यूनिवर्सिटी में बड़े पदों पर बैठे प्रशासक अपनी मनमानी कर रहे हैं ? दरअसल VC ने बताया कि कुलसचिव डॉ एके झा ड्यूटी ज्वॉइन नहीं कर रहे थे। इस वजह से ये कदम उठाया गया है। कुलसचिव डॉ एके झा के निलंबन पर VC प्रो. जेएल कौल ने मीडिया से बातचीत की।

यह भी पढें - Video: उत्तराखंड में अगले 24 घंटे होगी जबरदस्त बर्फबारी, बर्फानी बने बाबा केदार
यह भी पढें - उत्तराखंड के 17 सालों में पहली बार, इस विभाग में अलग अलग पदों के लिए भर्तियां शुरू
उनका कहना है कि कुलसचिव एके झा मेडिकल अवकाश पर थे। उन्हें बीते 23 नवंबर को ड्यूटी ज्वॉइन करनी थी। लेकिन उन्होंने ड्यूटी ज्वॉइन नहीं की। इसके साथ ही वीसी ने बताया कि 22 नवंबर की रात को कुलसचिव डॉ एके झा ने अवकाश बढ़ाने की खबर दी। ये खबर ई मेल के द्वारा दी गई। इसके बाद वीसी ने कहा कि विश्वविद्यालय के एकेडमिक ऑडिट के लिए निरीक्षण टीम आ रही है। इस वजह से काम का बोझ ज्यादा है। इस वजह से उन्होंने कुलसचिव डॉ एके झा के अवकाश बढ़ाने के आवेदन को अस्वीकृत कर दिया। इसके बाद कुलसचिव को वापस ड्यूटी ज्वॉइन करने के निर्देश दिए गए थे। लेकिन उन्होंने अपनी ड्यूटी ज्वॉइन नहीं की। खबर तो ये भी है कि कुलसचिव डॉ एके झा इससे पहले भी लंबे अवकाश पर गए थे। उस दौरान कर्मचारी संघ और छात्र संघ के नेताओं ने शिकायत भी की थी।

यह भी पढें - Video: नैनीताल को हमेशा के लिए जिंदा कर गए शशि कपूर, जब उत्तराखंड को कहा था स्वर्ग
यह भी पढें - सीएम त्रिवेंद्र का राहुल गांधी पर बड़ा प्रहार, इसे कांग्रेसी सह नहीं पा रहे हैं
वीसी ने कहा कि इससे पहले भी कुलसचिव की लम्बी छुट्टियों पर रहने की वजह से विश्वविद्यायल के कर्मचारी संघ व छात्र नेता उनकी शिकायत कर चुके हैं। अब बताया जा रहा है कि कुलपति की तरफ से इस मामले को लेकर एक जांच कमेटी भी गठित कर दी गई है। कुलसचिव एके झा ने मई 2015 में श्रीनगर विश्वविद्यालय में अपना पद संभाला था। लेकिन कुलपति आरोप लगा रहे हैं कि वो लगातार लंबी छुट्टियां ले रहे हैं और इस वजह से कार्य प्रणाली और शिक्षा प्रणाली पर बड़ा असर पड़ रहा है। अब सवाल ये है कि क्या कुलसचिव डॉ एके झा भी इस बारे में कोई बात नीडिया के सामने रहेंगे। अब तक उनका कोई बयान सामने नहीं आया है, ऐसे में लग रहा है कि उन पर लगे आरोपों में काफी सच्चाई भी है। देखना है कि आगे आने वाले वक्त में कुलसचिव डॉ एके झा क्या बयान देते हैं।


Uttarakhand News: Hnb vc suspend its registrar

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें