उत्तराखंड का भी होगा अपना क्रिकेट बोर्ड, 17 साल का अंधेरा छंटेगा, सुप्रीम कोर्ट देगा खुशखबरी

उत्तराखंड का भी होगा अपना क्रिकेट बोर्ड, 17 साल का अंधेरा छंटेगा, सुप्रीम कोर्ट देगा खुशखबरी

Good news for uttarakhand cricket  - उत्तराखंड न्यूज, उत्तराखंड क्रिकेट बोर्ड,उत्तराखंड,

अगर सब कुछ ठीक रहा तो उत्तराखंड को एक बड़ी खुशखबरी मिलने वाली है। आज उत्तराखंड में कई प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं। लेकिन उन्हें भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल होने के लिए दूसरे राज्यों के क्रिकेट बोर्ड के आगे गिड़गिड़ाना पड़ता है। चाहे आप एकता बिष्ट की करें, चाहे मानसी जोशी की करें, चाहे पवन नेगी की करें, या फिर ऋषभ पंत की ही क्यों ना करें। ये सारे के सारे खिलाड़ी दूसरे राज्यों के क्रिकेट बोर्ड से खेलते हैं। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। उत्तराखंड के होनहार क्रिकेटर्स को अब दूसरे राज्यों के सामने गिड़गिड़ाना नहीं पड़ेगा। बीते 17 साल से छाया से सूखा अब खत्म होने जा रहा है। दरअसल सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति एम खनविलकर और न्यायधीश डीवाई चंद्रचूड की पीठ ने की क्रिकेट बोर्ड को सभी लंबित मामलों को निपटारे करने का आदेश दिया है।

यह भी पढें - उत्तराखंड के दो बच्चे, स्पेन में खेलेंगे फुटबॉल वर्ल्ड कप, शुभकामनाएं
यह भी पढें - उत्तराखंड के औली में विंटर गेम्स, 15 जनवरी से बर्फीली वादियों में नया रोमांच
इसके साथ ही कोर्ट ने जनवरी के दूसरे हफ्ते में क्रिकेट बोर्ड के बड़े अधिकारियों को पेश होने के लिए कहा है। कोर्ट का मानना है कि उत्तराखंड में जल्द से जल्द क्रिकेट बोर्ड बनना चाहिए। अब ये भी जानिए कि आखिर ये सब कैसे हुआ है। 22 नवंबर को उत्तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन के दिव्य नौटियाल की तरफ से कोर्ट में एक हस्तक्षेप याचिका दाखिल की थी। पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली जे सोराबजी और सुमन खेतान ने मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा की बेंच के सामने ये याचिका पेश की गई थी। इस याचिका में गुजारिश की गई थी कि BCCI बनाम बाकी एसोसिएशन की लड़ाई में उत्तराखंड की मान्यता के मामला भी सुलझाया जाए। इस पर उत्तराखंड क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली जे सोराबजी ने कोर्ट के सामने अपनी बात रखी।

यह भी पढें - गांव की बेटी को सलाम, खेतों में पत्थर फेंकते-फेंकते बनी नेशनल प्लेयर
यह भी पढें - गांव की बेटी ने रचा इतिहास, 2000 मीटर रेस में जीता गोल्ड मेडल, बनाया नेशनल रिकॉर्ड
कोर्ट ने इस मामले को BCCI के क्रिकेट प्रशासक समिति के हवाले कर दिया। इसके साथ ही कोर्ट ने आदेश दिया है कि जनवरी 2018 के दूसरे हफ्ते से पहले सभी लंबित मामलों का निपटारा किया जाएगा। मतलब साफ है कि 2018 उत्तराखंड के क्रिकेटरों के लिए गुड न्यूज लेकर आएगा। अगर सब कुछ ठीक रहा तो उत्तराखंड का भी अपना क्रिकेट बोर्ड होगा। खास बात ये है कि उत्तराखंड के खिलाड़ियों को दूसरे राज्यों के क्रिकेट बोर्ड से सिफारिश नहीं करनी पड़ेगी। आज के दौर में उत्तराखंड में प्रतिभाओं की कोई कमी नहीं है। उत्तराखंड केचेहरे आईपीएल और वर्ल्ड कप में बेहतरीन खेल दिखा रहे हैं। पाकिस्तान के खिलाफ वर्ल्ड कप के मुकाबले में एकता बिष्ट ने 5 विकेट लेकर ये बात साबित कर दी थी।


Uttarakhand News: Good news for uttarakhand cricket

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें