जय उत्तराखण्ड: एक किसान के बेटे का हुनर देखिए, देश के सबसे ताकतवर सीएम भी हैरान

जय उत्तराखण्ड: एक किसान के बेटे का हुनर देखिए, देश के सबसे ताकतवर सीएम भी हैरान

CM shivraj singh chauhan impressed by uttarakhandi boy  - उत्तराखंड न्यूज, शिवराज सिंह चौहान,उत्तराखंड,

उत्तराखण्ड के होनहार पूरी दुनिया में अपनी मात्रभूमि का नाम रोशन कर रहे हैं । इस बार उत्तराखण्ड के एक प्रतिभाशाली बच्चे 'नवीन नगरकोटी' द्वारा बनाया गया एक जांच मॉडल एन.सी.आर.टी. में शामिल किया गया है। इस बच्चे का हुनर देख कर मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी इस होनहार नौनिहाल को शाबासी दी है । दरअसल 10 से 16 नवंबर तक मध्यप्रदेश के भोपाल में आयोजित जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में पूरे देश के 150 बाल वैज्ञानिकों ने अपने-अपने मॉडलों का प्रदर्शन किया था, जिसमें से 16 प्रदशों के बच्चों द्वारा बनाये गए आलेखों को एनसीईआरटी दिल्ली ने अपनी पुस्तक में छापा है। राजकीय इंटर कालेज लमगड़ा के बाल वैज्ञानिक नवीन नगरकोटी ने भोपाल में हुई जवाहरलाल नेहरू राष्ट्रीय विज्ञान प्रदर्शनी में अपने मॉडल अस्थमा जांच यंत्र का प्रदर्शन किया। इसकी जमकर सराहना हो रही है।

एनसीईआरटी दिल्ली ने नवीन द्वारा बनाए गए अस्थमा जांच यंत्र के संपूर्ण आलेख को अपनी पुस्तक में प्रकाशित किया है। उत्तराखण्ड के एक साधारण किसान परिवार के बेटे नवीन नगरकोटी के द्वारा अस्थमा जांच यंत्र मॉडल की मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी की सराहना की है। उन्होंने नवीन नगरकोटी और उनके मार्गदर्शक विनोद कुमार राठौर को प्रशस्त्रि पत्र और शील्ड देकर सम्मानित किया। मार्गदर्शक शिक्षक विनोद कुमार राठौर ने बताया कि 10 से 16 नवंबर तक आयोजित प्रदर्शनी में देश के 150 बाल वैज्ञानिकों ने मॉडलों का प्रदर्शन किया। एनसीईआरटी दिल्ली ने 150 में से 16 प्रदशों के आलेख अपनी पुस्तक में छापे हैं। इनमें नवीन नगरकोटी द्वारा बनाए गए अस्थमा जांच यंत्र का संपूर्ण आलेख मुद्रित किया गया है।

उत्तराखण्ड के किसान के बेटे नवीन नगरकोटी के द्वारा बनाये गए अस्थमा जांच यंत्र मॉडल की मदद से बहुत कम समय में ही कई लोगों की अस्थमा की जांच की जा सकती है। दरअसल यदि शुरुआती अवस्था में अस्थमा की पहचान हो जाए तो उसका उपचार करना आसान हो जाता है। इसे में एक बार ही में कई लोगों में अस्थमा के लक्षणों की जांच करने के लिए यंत्र होने से कई लोगों को इस का फायदा मिलना सुनिश्चित है। इस जांच यंत्र के आलेख में यंत्र बनाने के लिए एक रबर पाइप, एक कीप, एक मोटर, एक छोटा पंखा, एक डिजी मीटर का प्रयोग किया गया है। नवीन नगरकोटी के पिता किसान और माता गृहणी हैं। नवीन ने उपलब्धि का श्रेय मार्गदर्शक शिक्षक विनोद कुमार राठौर, माता, पिता, प्रधानाचार्य को दिया है। राज्य समीक्षा की ओर से नवीन को उनके उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं।


Uttarakhand News: CM shivraj singh chauhan impressed by uttarakhandi boy

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें