देहरादून सिटी पेट्रोल यूनिट ने पुलिस महानिदेशक का चालान काटा, मुस्तैदी पर डी.जी.पी. ने दी शाबाशी

देहरादून सिटी पेट्रोल यूनिट ने पुलिस महानिदेशक का चालान काटा, मुस्तैदी पर डी.जी.पी. ने दी शाबाशी

cpu invoices dgp for traffic rule violation - DGP Chalan, CPU Dehradun, DGP Raturi,उत्तराखंड,

देहरादून के दिलाराम चौक पर यातायात नियम के उल्लंघन में रविवार को सिटी पेट्रोल यूनिट (सीपीयू) के जवानों के अपने ही पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) अनिल रतूड़ी की निजी कार का चालान कर दिया। 1986 बैच के आइपीएस अधिकारी और उत्तराखण्ड के दसवें पुलिस महानिदेशक श्री रतूड़ी की निजी कार दिलाराम चौक पर ट्रैफिक सिग्नल की लाइन क्रास कर गई थी। जिस पर वहां तैनात सीपीयू जवानों ने कार की वीडियोग्राफी कर उसे रोकते हुए अपनी पूछ-ताछ शुरू कर दी। कार में सवार पुलिस महानिदेशक श्री रतूड़ी को जैसे ही पेट्रोल यूनिट के जवानों के देखा, वो एक बार तो सकपका गए परन्तु सादगी पसंद डी.जी.पी. रतूड़ी ने यातायात नियम के उल्लंघन की गलती स्वीकारते हुए सीपीयू जवानों की पीठ थपथपाई और सौ रुपये के नगद चालान का भुगतान किया।

इस सम्बन्ध में प्राप्त सूत्रों के मुताबिक, पुलिस महानिदेशक श्री अनिल रतूड़ी रविवार को दोपहर में अपनी निजी सेंट्रो कार से राजपुर रोड से गुजर रहे थे। तकरीबन सवा दो बजे उनकी सेंट्रो कार दिलाराम चौक की रेड-लाइट पर पहुंची। ट्रैफिक सिग्नल पर श्री रतूड़ी की कार का चालक ब्रेक नहीं लगा पाया और कार सफेद लाइन क्रास कर गई। कार को सिग्नल तोड़ता देख वहां तैनात सिटी पेट्रोल यूनिट के जवान अशोक डंगवाल (एस.आई.) और अर्जुन सिंह (सिपाही) वीडियोग्राफी करने लगे और कार की तरफ बढे। डी.जी.पी. अपनी कार में पीछे की सीट पर बैठे थे साथ ही उनके चालक ने भी किसी प्रकार की प्रतिक्रिया नहीं की, जिस पर सिटी पेट्रोल यूनिट के जवानों ने वीडियोग्राफी के बाद चालान बुक निकाल कर चालान काटने की प्रक्रिया शुरू कर दी।

सिटी पेट्रोल यूनिट के जवानों को पूरी मुस्तैदी के साथ अपनी ड्यूटी करते देख कर उत्तराखण्ड के दसवें पुलिस महानिदेशक श्री रतूड़ी कार से बाहर आये। अपने डी.जी.पी. को देख सिटी पेट्रोल यूनिट के जवान हैरान रह गए और अचानक हुई इस घटना से सकपका गए। लेकिन डी.जी.पी. ने सतर्कता से अपनी ड्यूटी करने पर जवानों को शाबाशी दी और सिटी पेट्रोल यूनिट के एम.वी. एक्ट की धारा 177 में चालान काटते हुए डी.जी.पी. से 100 रुपये का नगद भुगतान चालान के रूप में लिया। इसके बाद महानिदेशक वहां से निकल गए। डी.जी.पी. की कार का चालान पूरे दिन पुलिस महकमे में चर्चाओं का विषय रहा। हालांकि पुलिस अधिकारी इस चालान की पुष्टि करने से बचते रहे, परन्तु डी.जी.पी. के पी.आर.ओ. ने इस घटना की पुष्टि की है। जिसके बाद पुलिस महकमे के साथ ही सोशल मीडिया पर भी पुलिस महानिदेशक श्री रतूड़ी की सादगी की जमकर तारीफ हो रही है।


Uttarakhand News: cpu invoices dgp for traffic rule violation

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें