हरिद्वार में लावा गिरने से सिलेंडर ब्लास्ट, जनरेटर ब्लास्ट, झुलस गए 14 लोग

हरिद्वार में लावा गिरने से सिलेंडर ब्लास्ट, जनरेटर ब्लास्ट, झुलस गए 14 लोग

Big accident in haridwar at iron factory - उत्तराखंड न्यूज, हरिद्वार हादसा ,उत्तराखंड,

हरिद्वार में एक ऐसा हादसा हो गया, जिसके बारे में सोचा भी नहीं था। हरिद्वार के थिथौला स्थित एक लोहे की फैक्ट्री में लोहे का लावा गिरने से बड़ा हादसा हो गया। लावा गिरने के बाद सिलेंडर में ब्लास्ट हो गया। इसके बाद जनरेटर में ही आग लग गई। इस भईषण हादसे की चपेट में करीब 14 लोग आ गए हैं। ये 14 लोग जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे हैं। हैरानी की बात तो ये है कि फैक्ट्री प्रबंधन ने इस मामले को छिपाए रखा। जब पुलिस को इस बात की जानकारी मिली, तो तब जाकर मामले का पता चल पाया। थिथौला गांव में राणा बार के नाम से लोहे की एक फैक्ट्री है। फैक्ट्री में लोहे की भट्टी पर काम चल रहा था। पिघले हुए लोहे को क्रेन की मदद से दूसरी जगह भेजा जा रहा था। इस बीच क्रेन की चेन टूट गई। अचानक हुआ ये हादसा खतरनाक हो गया।

मौके पर काम करे करीब 14 लोगों पर ये लावा गिर गया। लावे की आग कितनी खतरनाक होती है, ये बात तो आप अच्छी तरह से जानते होंगे। पिघले हुए लावा की वजह से वहां रखे गैस सिलेंडर में भी ब्लास्ट हो गए। हादसा और भी ज्यादा बढ़ गया। सिलेंडर में लगी आग की वजह से जनरेटर में भी आग लग गई। मजदूरों की चीख सुनकर बाकी कर्मचारी मौके पर पहुंच गए। सूचना मिलने पर एसआइ प्रमोद कुमार पीएसी के साथ मिलकर मौके पर पहुंचे। फैक्ट्री के अंदर जाने को लेकर पुलिस की सुरक्षाकर्मियों के साथ बहस भी हुई। पुलिस ने मौके पर जाकर जांच पड़ताल की। फैक्ट्री के एक अधिकारी को हिरासत में लिया है। घायलों का किस अस्पताल में इलाज चल रहा है ? फैक्ट्री प्रबंधन ने इस बारे में भी कोई जानकारी नहीं दी है।

वो 14 लोग जिंदा हैं या मर गए, इस बारे में भी फैक्ट्री प्रबंधन कुछ नहीं बता रहा। मंगलौर कोतवाली प्रभारी गिरीश चंद शर्मा का कहना है कि अभी तक मामले की तहरीर नहीं आई है। तहरीर आने पर कार्रवाई की जाएगी। बड़ा सवाल ये भी है कि आखिर पुलिस भी खामोश क्यों बैठी है ? आखिर क्यों ये पता नहीं किया जा रहा है कि वो 14 लोग कहां हैं ? क्या दौलत को सामने देखकर खाकी की भी नीयत डोल गई है, जो इस फैक्ट्री पर कार्रवाई नहीं हो रही ? वो 14 लोग किस हाल में हैं, कोई नहीं जानता लेकिन पुलिस तहरीर की बात कर रही है। ऐसे में सवाल पुलिस तंत्र पर भी खड़े होते हैं। फैक्ट्री मालिक की ये खामोशी बता रही है कि हादसा कितना गंभीर रहा होगा। जवाब तो हर हाल में देना पड़ेगा और इसके लिए पुलिस को हर हाल में एक्शन लेना पड़ेगा।


Uttarakhand News: Big accident in haridwar at iron factory

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें