चमोली में भूकंप से दहशत, खतरा अभी टला नहीं, वैज्ञानिकों ने फिर दी वॉर्निंग !

चमोली में भूकंप से दहशत, खतरा अभी टला नहीं, वैज्ञानिकों ने फिर दी वॉर्निंग !

Earthquake in chamoli - उत्तराखंड न्यूज, चमोली भूकंप, uttarakhand news, ch,उत्तराखंड,

उत्तराखंड के चमोली में एक बार फिर से भूंकप के झटकों ने लोगों को दहशत में डाल दिया। जी हां एक बार फिर से भूकंप ने चमोली और आस-पास के इलाके में लोगों को डरा दिया। मंगलवार की रात 8.52 पर भूंकप की वजह से धरती हिलने लगी। लोगों में एक बार फिर से हड़कंप मच गया। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 4.2 आंकी गई है। बताया जा रहा है कि भूकंप का केंद्र चमोली में घरती के 10 किलोमीटर नीचे था। इसके अलावा वैज्ञानिकों ने कुछ चौंकाने वाली बातें कही हैं। वज्ञानिकों ने क्या चेतावनी दी है, इससे पहले आपको बता दें कि चमोली इससे पहले भी लगातार भूकंप का केंद्र रह चुका है। भूकंप की वजह से यहां पहले भी काफी तबाही मच चुकी है। ऐसे में सतर्क रहिए, सावधान रहिए। हम आपको सतर्क और सावधान रहने के लिए इस लिए कह रहे हैं कि क्योंकि इसके पीछे कई खतरे छिपे हैं।

हालांकि धरती के अंदर चल रही उथल-पुथल को लेकर कोई कायस तो नहीं लगाए जा सकते, लेकिन आने वाले खतरे को भांपते हुए आपको सावधान रहने की जरुरत है। खास करके तब, जब ये बता पाना नामुमकिन हो कि किस इलाके में कब और कितना बड़ा भूकंप कितने अंतराल में सकता है। और यही वजह है कि इसे लेकर चिंताएं और बढ़ जाती हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि प्रदेश में जिस तरह से लगातार भूकंप के झटके महसूस किए जा रहे हैं, ये एक बड़े खतरे का संकेत भी हो सकते हैं। भूवैज्ञानिकों के मुताबिक प्रदेश समेत पूरे उत्तर भारत के कई राज्यों में बड़े भूकंप की आशंका हर वक्त बनी रहती है। ये आने वाले दिनों से लेकर 50 साल बाद भी आ सकता है। और इसकी मुख्य वजह हिमालयी क्षेत्र की भूगर्भीय प्लेटों का लगातार तनाव में रहना बताया जा रहा है।

विशेषज्ञों की मानें तो इंडियन प्लेट हर साल 45 मिलीमीटर की रफ्तार से यूरेशियन प्लेट के नीचे घुस रही है। इससे भूगर्भ में लगातार ऊर्जा संचित हो रही है। तनाव बढ़ने से निकलने वाली ज्यादा ऊर्जा से भूगर्भीय चट्टानें फट सकती हैं। 2000 किलोमीटर लंबी हिमालय श्रृंखला के हर 100 किमी क्षेत्र में तीव्र क्षमता का भूकंप आने की संभावना है। हिमालयी क्षेत्र में ऐसे 20 जगह हो सकते हैं जो भूकंप के केंद्र हो सकते हैं। विशेषज्ञों का कहाना है कि हालात ये इशारा कर रहे हैं कि उत्तराखंड समेत पूरे उत्तर भारत में कभी भी बड़ा भूकंप आ सकता है। प्रदेश में एक अंतराल पर धरती के डोलने को आप एक चेतावनी के तौर पर ले सकते हैं, क्योंकि ये हिमालय का क्षेत्र है। जिसके भूगर्भ में लगातार सालों से बदलाव हो रहा है। और इस बात की वैज्ञानिक भी पुष्टि करते आ रहे हैं।


Uttarakhand News: Earthquake in chamoli

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें