देहरादून में बड़ा हादसा, नदी में बहे पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी के दो छात्र..मचा हड़कंप

अभिषेक ने पिता से वादा किया था कि वो जल्द लौट आएगा, पर होनी को कुछ और ही मंजूर था, हादसे में मारे गए छात्रों के घर कोहराम मचा है...

two students drown in river dehradun - उत्तराखंड न्यूज, देहरादून पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी, देहरादून नीमी नदी, नीमी नदी देहरादून, देहरादून न्यूज,Uttarakhand News, Dehradun Petroleum University, Dehradun Neemi River, Neemi River Dehradun, Dehr, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

देहरादून में एक बड़ा हादसा हो गया। नदी में नहाने गए पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी के दो छात्र नीमी नदी के तेज बहाव में बह गए, दूसरे छात्रों ने किसी तरह नदी से बाहर निकलकर अपनी जान बचाई। पुलिस ने दोनों छात्रों की लाशें बरामद कर ली हैं। हादसे के बाद से मृतक छात्रों के परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। हादसे का शिकार हुए छात्रों में से एक छात्र हल्द्वानी का रहने वाला था, जबकि दूसरा दिल्ली में रहता था। माता-पिता ने बड़े भरोसे से अपने लाडलों को पढ़ने के लिए देहरादून भेजा था, पर होनी को कुछ और ही मंजूर था। रविवार को बिधौली स्थित पेट्रोलियम यूनिवर्सिटी के छह छात्र-छात्राएं घूमने गए हुए थे। सभी छात्र बीटेक फर्स्ट इयर कंप्यूटर साइंस के छात्र हैं। दून में इन दिनों उमस भरी गर्मी पड़ रही है, इसलिए छात्रों ने सोचा कि क्यों ना नीमी नदी में डुबकी लगा ली जाए। छात्र जसपाल राणा शूटिंग रेंज के पास स्थित नदी में नहाने लगे, कि तभी नदी का जलस्तर बढ़ गया। छात्र संभल पाते इससे पहले ही वो नदी के तेज बहाव में फंस गए। छात्रों ने वहां से भागने की कोशिश की, लेकिन दो छात्र वहीं फंसे रह गए।

यह भी पढें - चमोली जिले में भूस्खलन से भारी तबाही, मलबे में दबकर मां-बेटी समेत 3 महिलाओं की मौत
छात्रों का शोर सुनकर ग्रामीण भी वहां आ गए। उन्होंने छात्रों को बचाने की कोशिश भी की, पर कामयाबी नहीं मिली। दोनों छात्र देखते ही देखते नदी में बह गए। मृतकों में 19 साल का मिहिर भटेजा और 22 साल का अभिषेक कांडपाल शामिल हैं। मिहिर दिल्ली का रहने वाला था, जबकि अभिषेक का परिवार हल्द्वानी में रहता है। दोनों की लाश रविवार शाम को टौंस नदी से बरामद हुई। जिन छात्रों की जान बच गई है, वो भी घायल हैं। परिवारवाले अपने लाडलों को याद कर बिलख रहे हैं। अभिषेक कांडपाल अपने पिता के साथ आईएमए परिसर में रहता था, उसके पिता जेसीओ हैं। पिता ने बताया कि आखिरी बार जब उनकी बेटे से बात हुई थी तो उसने जल्द घर आने का वादा किया था। उसने कहा कि पापा मैं बस अभी आता हूं, पर लौटा नहीं। बेटे की लाश देख पिता ने होश खो दिए। वो फफक-फफक कर रोने लगे। मिहिर के परिजन भी दिल्ली से दून पहुंच गए हैं। हादसे कभी कह कर नहीं होते, इसलिए हमारी आपसे अपील है कि बरसात के दौरान नदी-पोखरों में नहाने से बचें। नदी के किनारे लगे दिशा-निर्देशों का पालन करें।


Uttarakhand News: two students drown in river dehradun

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें