देवभूमि में रहना चाहती है 11 साल की ये विदेशी बच्ची..PM मोदी को खत भेजकर लगाई गुहार

11 साल की यूरोपीय बच्ची एलिजा ने पीएम नरेंद्र मोदी को खत लिखकर भारत में आसरा देने की गुहार लगाई है...देखिए तस्वीरें और वो चिट्ठी

STORY OF polish girl WHO WANTS TO LIVE IN UTTARAKHAND - उत्तराखंड, केदारनाथ, मां नंदा देवी, पोलैंड गर्ल एलिजा, एलिजा स्टोरी उत्तराखंड, Uttarakhand, Kedarnath, Mother Nanda Devi, Poland Girl Elijah, Eliza Story Uttarakhand, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

बाबा केदार की महिमा अनंत है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर अरबपति मुकेश अंबानी तक बाबा केदार के आध्यात्मिक आकर्षण से बंधे नजर आते हैं...जब बात भक्ति की आती है तो क्या देश क्या विदेश, आस्था भला सीमाएं कहां देखती है और आध्यात्म तो ब्रह्मांड की सीमाओं से ही परे है..ये वो शिव तत्व है, जिसे किसी शब्द...किसी भाव की परिधि में बांधा ही नहीं जा सकता...बाबा केदार की ऐसी ही अनन्य भक्त है 11 साल की एलिजा वानात्को, यूं तो वो यूरोप की रहने वाली हैं पर भारत से एलिजा और उनकी मां का अटूट रिश्ता है। एलिजा और उनकी मां मारटा कोटलारस्का की केदारनाथ में अगाध श्रद्धा है। एलिजा को उत्तराखंड से बेहद प्यार है, वो कभी भारत छोड़कर नहीं जाना चाहतीं। 11 साल की एलिजा वानात्को इन दिनों सुर्खियों में है और चर्चा की वजह है वो लेटर जो कि एलिजा ने पीएम नरेंद्र मोदी को लिखते हुए, उनसे भारत में ठहरने की इजाजत मांगी है।

1/6 एलिजा ने पीएम मोदी को अपने हाथ से एक लेटर लिखा
STORY OF polish girl WHO WANTS TO LIVE IN UTTARAKHAND

दरअसल एलिजा वानात्को और उनकी मां को भारत में तय अवधि से ज्यादा ठहरने की वजह से ब्लैकलिस्ट किया गया है। हाल ही में एलिजा ने पीएम मोदी को अपने हाथ से एक लेटर लिखा और उनसे भारत में रहने की इजाजत मांगी। इस लेटर में पीएम मोदी के साथ ही विदेश मंत्री एस.जयशंकर को भी संबोधित किया गया है।

2/6 एक-एक शब्द उनके भारत प्रेम को दर्शाता है
STORY OF polish girl WHO WANTS TO LIVE IN UTTARAKHAND

एलिजा के इस लेटर का एक-एक शब्द उनके भारत प्रेम को दर्शाता है। इसमें एलिजा ने लिखा है कि उन्हें भगवान शिव से, यहां की खूबसूरत प्रकृति से और नंदादेवी से प्यार है। उन्होंने लिखा कि मेरी मां को 24 मार्च, 2019 को भारत में दाखिल नहीं होने दिया गया, कहा गया कि हमें ब्लैकलिस्ट कर दिया गया है। क्योंकि हम तय अवधि से अधिक ठहरे थे। बता दें कि एलिजा की मां मारटा कोटलारस्का ने अप्रैल में तत्कालीन विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से भी मदद मांगी थी।

3/6 मारटा कोटलारस्का एक आर्टिस्ट और फोटोग्राफर हैं
STORY OF polish girl WHO WANTS TO LIVE IN UTTARAKHAND

उनका कहना था कि उत्तराखंड के चमोली के फॉरन रीजनल रजिस्ट्रेशन ऑफिस ने "एक गलतफहमी" की वजह से उन्हें तय अवधि से ज्यादा ठहरने के चलते ब्लैकलिस्ट कर दिया है। मारटा कोटलारस्का एक आर्टिस्ट और फोटोग्राफर हैं। वो अपने भारतीय वीजा को रिन्यू करने के लिए श्रीलंका गई थीं, लेकिन भारतीय अधिकारियों ने उन्हें 24 मार्च को वापस भेज दिया था।

4/6 उत्तराखंड प्रेम साफ देखा जा सकता है
STORY OF polish girl WHO WANTS TO LIVE IN UTTARAKHAND

तस्वीरों में इनका भारत और उत्तराखंड प्रेम साफ देखा जा सकता है। दोनों मां बेटी फिलहाल कंबोडिया में हैं, और भारत लौटने का इंतजार कर रही हैं। एलिजा और मारटा कहती हैं कि वो भले ही भारतीय ना हों पर भारत उनका घर है। वो हिंदुत्व और आध्यात्मिकता से जुड़ चुके हैं।

5/6 कृपया हमारी मदद करें
STORY OF polish girl WHO WANTS TO LIVE IN UTTARAKHAND

अपने खत में नन्हीं एलिजा लिखती हैं कि "मुझे ऐसा लग रहा है कि सबकुछ दोबारा से खत्म हो गया है। मैं भगवान शिव और नंदा देवी से मदद करने के लिए प्रार्थना मांग रही हूं और मैंने आपको खत इसलिए लिखा क्योंकि आप सबसे शक्तिशाली व्यक्ति हो, जो मेरी और मेरी मां की भारत, हमारे घर आने में मदद कर सकते हो। कृपया हमारी मदद करें और हमें ब्लैकलिस्ट से हटाने की मंजूरी दें।"

6/6 पीएम मोदी से भी मदद की गुहार
STORY OF polish girl WHO WANTS TO LIVE IN UTTARAKHAND

भई भगवान शिव के इन भक्तों का भारत में रहना तो बनता है, एलिजा और उनकी मां मारटा ने भगवान भोलेनाथ के साथ ही ही उनके भक्त पीएम मोदी से भी मदद की गुहार लगाई है...अब तो बस ‘तथास्तु’ का इंतजार है।


Uttarakhand News: STORY OF polish girl WHO WANTS TO LIVE IN UTTARAKHAND

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें