पहाड़ के इस गरीब परिवार की मदद कीजिए..मां और दो बेटियों की जिंदगी का सवाल है..शेयर करें

अस्पताल में भर्ती दीपा और उसके दो मासूम बच्चों की सुध लेने वाला कोई नहीं है, उसे आपकी मदद की जरूरत है...पढ़िए और शेयर कीजिए ये खबर

help deepa of chamoli tharali uttarakhand - उत्तराखंड, उत्तराखंड न्यूज, लेटेस्ट उत्तराखंड न्यूज, चमोली दीपा, चमोली गरीब परिवार, श्रीनगर बेस हॉस्पिटल, Uttarakhand, Uttarakhand News, Latest Uttarakhand News, Chamoli Deepa, Chamoli poor family, Sr, uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand

सच्चा इंसान वही है, जो दूसरे इंसान का दर्द समझे, उसकी परेशानियों को दूर करने की कोशिश करे...आप भी इंसान होने का फर्ज निभाइये और पहाड़ की एक लाचार बहन की मदद कीजिए। पौड़ी की रहने वाली दीपा देवी को और उनके दो छोटे-छोटे बच्चों को आपकी मदद की जरूरत है। दीपा देवी इस वक्त बहुत मुश्किल दौर से गुजर रही है। एक हादसे ने उन्हें ना सिर्फ लाचार बना दिया है, बल्कि उनके दोनों बच्चों के सामने परवरिश का संकट भी खड़ा कर दिया है। दीपा चमोली के थराली की रहने वाली है, उसका ससुराल पौड़ी में है। कुछ समय पहले दीपा चारा काटते समय पेड़ से गिर गई थीं। इस हादसे की वजह से उनकी रीढ़ की हड्डी और पैर में फ्रैक्चर आ गया। बीमार दीपा दर्द से तड़प रही थी, लेकिन इस मुश्किल वक्त में ना तो उनके पति ने साथ दिया और ना ही पिता ने....किसी तरह दीपा खुद अस्पताल पहुंचीं और अभी श्रीनगर के बेस अस्पताल में भर्ती है।

यह भी पढें - उत्तराखंड: जहर खाने से फौजी की पत्नी की मौत ...5 महीने पहले ही हुई थी शादी
दीपा के दो बच्चे हैं, बेटी की उम्र 8 साल है और बेटा अभी 10 महीने का है, इन मासूमों की देखभाल करने वाला भी कोई नहीं है। ये दोनों दीपा के साथ ही रह रहे हैं, और अस्पताल ही इनका घर बन गया है। कहते हैं जब मुसीबत आती है तो अपने भी पराए हो जाते हैं। अपनों की बेरूखी क्या होती है, ये कोई दीपा से पूछे। रिश्तेदार और संबंधी दीपा की सुध नहीं ले रहे, यही नहीं उन्होंने दीपा के बच्चों को साथ रखने से भी इनकार कर दिया है। अब अस्पताल में रह गई है तो सिर्फ दीपा और उसके दोनों बच्चे। मां की लाचारी ने उसकी 8 साल की बेटी कृष्णा को समय से पहले बड़ा कर दिया है। वो सुबह शाम मां की सेवा में जुटी रहती है। कृष्णा ही अपनी मां को व्हील चेयर पर बैठाकर टॉयलेट तक लेकर जाती है, उसके लिए बाजार से दवाएं लाती है। साथ ही वो छोटे भाई की देखभाल भी करती है। अपनी मां के साथ ये दोनों बच्चे इस वक्त जिस तकलीफ से गुजर रहे हैं, उसे देख हर किसी का दिल पसीज जाता है।

यह भी पढें - उत्तराखंड: 11 दिन से घर नहीं पहुंचा जवान का पार्थिव शरीर, मां-पिता और पत्नी ने छोड़ा खाना
दीपा की आर्थिक स्थिति बेहद खराब है, अस्पताल के डॉक्टर और नर्स किसी तरह उसकी मदद कर रहे हैं, लेकिन अब हमें भी दीपा की मदद के लिए आगे आना होगा। दीपा के पास ना तो खुद के इलाज के लिए पैसे हैं और ना ही बच्चों की परवरिश के लिए। इसलिए हमारा आपसे निवेदन है कि दीपा और उसके परिवार की जितना संभव हो मदद कीजिए। इस खबर को जितना हो सके एक-दूसरे तक पहुंचाएं ताकि दीपा के इलाज के लिए मदद जुटाई जा सके। आपकी तरफ से की गई छोटी सी मदद भी इस परिवार को बड़ा सहारा देगी। आप भी दीपा की मदद कर सकते हैं। दीपा के बैंक अकाउंट की डिटेल आप नीचे देख सकते हैं।
दीपा देवी -SBI Khirshu pauri garhwal
Account number - 34614557281
Ifsc code -SBIN0003424


Uttarakhand News: help deepa of chamoli tharali uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें