देवभूमि में आ सकती है 2013 से बड़ी तबाही, सेटेलाइट से मिली झील की डरावनी तस्वीर

देवभूमि में आ सकती है 2013 से बड़ी तबाही, सेटेलाइट से मिली झील की डरावनी तस्वीर

artificial lake in niti velley uttarakhand  - uttarakhand lake, niti velley uttarakhand , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,रायकाणा ग्लेशियर,उत्तराखंड,रिसर्च,ग्लेशियरों,चोराबाड़ी ताल,उत्तराखंड

साल 2013 की केदारनाथ आपदा...वो मंज़र याद करते ही रूह कांप उठती है। केदारनाथ में तबाही एक झील की वजह से मची थी। लेकिन अब एक और झील तबाही की कहानी लिख रही है। वक्त रहते हुए इस पर ध्यान नहीं दिया गया तो कोई बड़ी घटना घट सकती है। एक बड़ी वेबसाइट ने सेटेलाइट की कुछ तस्वीरों को दिखाया है, जो उत्तराखंड के उच्च हिमालयी क्षेत्र की हैं। चमोली जिले की ये तस्वीरें नीति गांव से करीब 22 किलोमीटर की दूरी पर स्थित एक झील का संकेत दे रही हैं। यहांकमेंट और रायकाणा ग्लेशियर के मुहाने पर इस ये झील तैयार हो रही है। यूं तो ये झील साल 2001 से ही बना शुरू हो गई थी लेकिन 2018 आते -आते इस झील ने एक विशाल आकार ले लिया है। बताया गया है कि ये झील उत्तराखंड में बड़ी आफत ला सकती है। इस बारे में कुछ खास बातें जान लीजिए।

यह भी पढें - उत्तराखंड में 8 रिक्टर स्केल के भूकंप का खतरा!
उत्तराखंड अंतरिक्ष उपयोग केन्द्र यानी यूसेक सेटेलाइट के जरिए प्राकृतिक झीलों के चित्रों पर रिसर्च कर रहा था। इसी दौरान पता चला कि नीति गांव से ऊपर एक झील है। आपको जानकर हैरानी होगी कि हर साल इस झील का क्षेत्रफल 500 मीटर से 700 मीटर तक बढ़ रहा है। ये हर किसी की चिंता का एक बड़ा सबब है। जानकारों का कहना है कि ग्लेशियरों के मुहाने पर बनी झील हमेशा मोरेन पर बनती है। आप भी सेटेलाइट से मिली ये तस्वीर देखिए, उसके बाद और भी चौंकानी वाली खबर जानिए।

यह भी पढें - नैनीताल झील को लेकर वैज्ञानिकों ने दी बड़ी चेतावनी
हालांकि ऐसी झीले बनती और टूटती रहती हैं लेकिन अगर कोई झील लंबे वक्त से बनती ही जा रही है तो ये हानिकारक साबित हो सकती है। जिस मोरेन यानी सतह पर ऐसी झीलें तैयार होती हैं, उसकी क्षमता बेहद कम होती है । इस वजह से अगर झील में कोई भी बड़ी हलचल हुई तो बड़ी तबाही मच सकती है। ऐसा ही कुछ 2013 में केदारनाथ के ऊपर बने चोराबाड़ी ताल के साथ हुआ था। ग्लेशियरों के मुहाने पर ही थी, जिसके फटने से बड़ी आपदा प्रदेश में आई थी। उत्तराखंड अंतरिक्ष उपयोग केन्द्र यानी यूसेक की रिसर्च के बाद ये खतरा सामने आया है और बताया जा रहा है कि वैज्ञानिक इस पर चिंता जताने लगे हैं। सवाल ये है कि क्या एक बार फिर से उत्तराखंड में बड़ी तबाही के संकेत मिल रहे हैं ? क्या वक्त रहते वैज्ञानिकों द्वारा इस पर काम किया जाएगा? देखना है कि आगे क्या होता है।


Uttarakhand News: artificial lake in niti velley uttarakhand

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें