सावधान! उत्तराखंड में बांग्लादेशियों की घुसपैठ..हाईकोर्ट ने कहा ‘ये खतरनाक है’

सावधान! उत्तराखंड में बांग्लादेशियों की घुसपैठ..हाईकोर्ट ने कहा ‘ये खतरनाक है’

bangladshi Infiltration in uttarakhand says highcourt  - uttarakhand high court, bangladeshi incursin , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,उत्तराखंड,

ये बात सच है कि बांग्लादेशी घुसपैठ के लिहाज से उत्तराखंड काफी संवेदनशील राज्य बन गया है। ऐसी खबरें पहाड़ के साथ साथ ऋीषिकेश, हरिद्वार, उधमसिंह नगर जैसे जिलों से सामने आ चुकी हैं। आपको हैरानी होगी कि ज्यादा दूर नहीं बल्कि उधम सिंह नगर के एक गांव में 367 बांग्लादेशियों ने घुसपैठ की और सभी तरह के प्रमाण पत्र भी हासिल कर दिए। ये बात हाईकोर्ट में दायर याचिका में साफ तौर पर लिखी गई है। अब हाईकोर्ट ने इस मामले को बेहद खतरनाक बताया है। बांग्लादेशी घुसपैठियों को लेकर नैनीताल हाई कोर्ट काफी सख्त नजर आया। कोर्ट ने ऊधमसिंह नगर जिले के गदरपुर में बांग्लादेशी घुसपैठियों के मामले को बेहद खतरनाक मानते हुए केंद्र और राज्य सरकार से जवाब तलब किया है। दरअसल गदरपुर निवासी सुरेश मंडल ने जनहित याचिका दायर की थी। याचिका में उन्होंने कहा है कि उनकी ग्राम पंचायत में 367 बांग्लादेशियों ने घुसपैठ कर सभी प्रकार के प्रमाण पत्र हासिल कर लिए हैं।

यह भी पढें - पहाड़ का सपूत..मां के इलाज के लिए घर आ रहा था..तिरंगे में लिपटकर चला गया
इस याचिका में बेहद हैरान करने वाली बात ये है कि बांग्लादेशियों ने ग्राम पंचायत के पदों पर भी कब्जा कर लिया है। याचिकाकर्ता का आरोप है कि याचिका दायर करने के बाद से उन्हें प्रताड़ित किया जा रहा है। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस और प्रशासन की मिलीभगत से याचिकाकर्ता को गैंगेस्टर घोषित करने की कोशिश की गई। वही बांग्लादेशी घुसपैठियों की मौजूदगी का मामला सामने आने के बाद पुलिस और खुफिया एजेंसियां सतर्क हो गई है।ऐसा नहीं है कि उत्तराखंड में बांग्लादेशियों की घुसपैठ का यह पहला मामला है। इससे पहले ऋषिकेश, हरिद्वार और ऊधमसिंह नगर में भी इनके द्वारा घुसपैठ की जा चुकी है। इन मामलों पर पुलिस भी लगातार अभियान चलाकर कार्रवाई कर रही है। और कर्इ घुसपैठियों को हिरासत में भी ले चुकी है। हाल ही में हरिद्वार के कलियर से एक बांग्लादेशी घुसपैठ को पुलिस ने गिरफ्तार किया था।


Uttarakhand News: bangladshi Infiltration in uttarakhand says highcourt

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें