loksabha elections 2019 results

उत्तराखंड में सच साबित हुई मौसम विभाग की भविष्यवाणी, चमोली जिले में बादल फटा

उत्तराखंड में सच साबित हुई मौसम विभाग की भविष्यवाणी, चमोली जिले में बादल फटा

Chamoli district cloudburst  - Uttarakhand rain, chamoli , uttarakhand, uttarakhand news, latest news from uttarakhand,,उत्तराखंड,

उत्तराखंड के लिए हाल ही में मौसम विभाग ने अलर्ट जारी किया था। मौसम विभाग ने कल ही कहा था कि उत्तराखंड के लिए आने वाले 48 घंटे बेहद खतरनाक साबित हो सकते हैं। साथ ही कहा गया था कि कई जिलों में बादल फटने जैसी घटनाएं भी हो सकती हैं। इसका असर भी उसी वक्त देखने को मिला जब चमोली जिले में बादल फट गया। बताया जा रहा है कि चमोली जिले के कर्णप्रयाग के सुनाली गांव में बादल फटने से से तबाही मची है। बताया जा रहा है कि इस वजह से गांव में कई मकानों को नुकसान हुआ है। एक ही परिवार के चार लोग घायल भी हुए हैं। बादल फटने से कई मवेशी भी जिंदा दफन हो गए। आपदा और राहत टीम को मौके पर भेज दिया गया है। मलबे में फंसे लोगों को रेस्क्यू कर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बादल फटने की वजह से हड़कंप मचा हुआ है।

यह भी पढें - उत्तराखंड के लिए अगले 48 घंटे संवेदनशील, बादल फटने की संभावना..अलर्ट पर 7 जिले!
चमोली जिले के अलावा देहरादून, पौड़ी, टिहरी, रुद्रप्रयाग, नैनीताल, बागेश्वर और पिथौरागढ़ में जबरदस्त बारिश की संभावना जताई है। मौसम विभाग का साफ कहना है कि इन आठ जिलों के लोग अलर्ट पर रहें। चमोली जिलाधिकारी स्वाती एस भदौरिया का कहना है कि आपदा राहत टीम को मौके पर भेज दिया गया है। आपको बता दें कि इसी गांव में 2013 में भी बादल फटा था। उस दौरान भी भारी तबाही मची थी। एक बार फिर से गांव वाले दहशत के साये में जीने को मजबूर हो रहे हैं। लोग गांव छोड़कर सुरक्षित स्थानों पर जा रहे हैं। इस बीच पूरा गढ़वाल और कुमाऊं भारी बारिस की वजह से तितर बितर हो गया है। हालात ऐसे हैं कि पूरे उत्तराखंड में करीब 500 गांव जिला मुख्यालय से कट गए हैं। 115 से ज्यादा सड़कें बेहाल हो गई हैं। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ को भी अलर्ट मोड पर रखा गया है। नेशनल हाईवे अथॉरिटी, पीडब्ल्यूडी और सीमा सड़क संगठन को भी तैयार रहने के लिए कहा गया है। जिलाधिकारियों को भी जरूरी निर्देश दिए गए हैं।

यह भी पढें - पहाड़ में ऐसे डॉक्टर भी हैं..आपदा के बीच गर्भवती मां को दी नई जिंदगी..बच्चा भी स्वस्थ है
ऊधमसिंहनगर में बहला नदी के बहाव में तीन मकान बह गए। चार धाम यात्रा मार्गों पर मलबा आने का सिलसिला लगातार जारी है। टिहरी जिले में गंगात्री हाईवे और यमुनोत्री हाईवे लगातार बाधित हो रहा है। चमोली जिले में बदरीनाथ हाईवे का बुरा हाल है, तो रुद्रप्रयाग जिले में केदारनाथ हाईवे पर बार बार मलबा आ रहा है। मौसम विभाग द्वारा पहले ही चेतावनी जारी कर दी गई थी कि उत्तराखंड में आने वाले 48 घंटे काफी खतरनाक हो सकते हैं। मौसम विभाग का कहना है कि ऐसे हालात में बादल फटने की आशंका है। पहाड़ों के साथ साथ राजधानी देहरादून का भी बुरा हाल है। जिलाधिकारियों को कहा गया है कि पर्यटकों को उच्च हिमालयी क्षेत्रों में ना भेजा जाए। उधर पर्वतीय इलाकों में भी बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो चुका है। इसलिए सावधान रहें। किसी भी परेशानी में आपदा कंट्रोल रूम को सूचित करें।


Uttarakhand News: Chamoli district cloudburst

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें