loksabha elections 2019 results

हिंदुस्तान को आंख दिखाने वाले चीन के लिए बुरी खबर, अमेरिका ने किया बड़ा ऐलान

हिंदुस्तान को आंख दिखाने वाले चीन के लिए बुरी खबर, अमेरिका ने किया बड़ा ऐलान

American launch new research on china economy - भारत, चीन, अमेरिका, अर्थव्यवस्थाउत्तराखंड,

जो चीन बार बार अपने बिजनेस को लेकर बड़ी बड़ी बातें कह रहा है, उसके लिए खतरे की घंटी बज चुकी है। बार बार भारत को कोरी धमकी देने वाला ये मुल्क जल्द ही बुरे दौर से गुजरने वाला है। जी हां अमेरिका की हार्वर्ड यूनिवर्सिटी में हाल ही में एक स्टडी की गई है। इस स्टडी के मुताबिक आने वाले कुछ ही सालों में CHINA की इकॉनमी में भारी गिरावट आने वाली है। हार्वर्ड यूनिवर्सिटी की स्टडी कहती है कि 2025 तक CHINA की इकॉनमी सबसे बुरे दौर से गुजरेगी। बताया गया है कि CHINA की इकॉनमिक ग्रोथ 2025 में 4.41 फीसदी पर होगी। इसके साथ ही इस स्टडी में कहा गया है कि 2025 में भारत इकॉनमिक ग्रोथ 7.72 फीसदी होगी। इसके साथ ही रिपोर्ट में भारत के लिए कुछ और भी बड़ी बातें कही गई हैं। रिपोर्ट में लिखा गया है कि आने वाले दशक में ग्लोबल इकॉनमिक ग्रोथ CHINA से शिफ्ट हो जाएगी और भारत की तरफ ही केंद्रित हो जाएगी।

इसके साथ ही कहा गया है कि भारत में ये स्थिति एक दशक तक बनी रहेगी। हाल ही में भारत में अर्थव्यवस्था को बढ़ाने के लिए जो कदम उठाए गए हैं, ये उसी का नतीजा होगा। रिपोर्ट की एक और खास बात ये है कि ड्रैगन के मुकाबले इंडोनेशिया, वियतनाम, केन्या, यूगांडा और मैक्सिको जैसे मुल्कों की इकॉनमी तेजी से आगे बढ़ेगी। रिसर्चर्स का कहना है कि बीते दशक में CHINA की इनकम में लगातार कमी हो रही है। इसके साथ ही CHINA पर कई देशों का भारी कर्ज भी है। इस वजह से इस मुल्क को धीमी इकॉनमिक ग्रोथ का सामना करना पड़ेगा। आने वाला दशक CHINA के लिए बेहद खराब रहने वाला है। हार्वर्ड के प्रोफेसर रिकार्डो हॉसमन ने इस बारे में कहा है कि भारत, इंडोनेशिया और वियतनाम ने लगातार नई क्षमताएं विकसित की हैं। इस तरह से इन मुल्कों की इकॉनमी में ज्यादा मजबूती आई है। इस वजह से आने वाले सालों में बेहतरीन मजबूती के आसार हैं।

एक तरफ सिक्किम में सीमा विवाद को लेकर चीन भारत को आंखें दिखा रहा है दूसरी तऱफ भारत में अपना बिजनेस बढ़ाने के लिए कई बातें कह रहा है। कहा जा रहा है कि आने वाले वक्त में भारत और china के बीच तनाव का असर कारोबार पर भी दिख सकता है। china के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने एक बार फिर से एक लेख लिखा है। इस लेख में लिखा गया है कि china की कंपनियां भारत में विरोध झेलने के लिए भी तैयार रहें। ग्लोबल टाइम्स ने अपने देश की कंपनियों को भारत में विरोधी भावना को थामने के उपायों पर विचार करने के लिए कहा है। आपको बता दें कि ड्रैगन का काफी ज्यादा बिजनेस भारत से चलता है। अखबार की तरफ से सलाह दी गई है कि दोनों देशों के बीच बढ़ते तनाव के बीच china की कंपनियों को विरोधी भावना से निपटने के लिए सोचना पड़ेगा। इसके साथ ही अखबार में 2104 में वियतनाम में china के बीच की तनातनी का भी जिक्र किया गया है।


Uttarakhand News: American launch new research on china economy

Content Disclaimer (Show/Hide)
लेख शेयर करें